कृष्णनगरी के कथित समाज सेवियों को आईना दिखातीं ’सुजाता’

कृष्णनगरी के कथित समाज सेवियों को आईना दिखातीं ’सुजाता’
कृष्णनगरी के कथित समाज सेवियों को आईना दिखातीं ’सुजाता’

Amit Sharma | Updated: 12 Sep 2019, 07:22:57 PM (IST) Mathura, Mathura, Uttar Pradesh, India

-वृंदावन में जरूरतमंदों के साथ भागलपुर की सुजाता के हाथ

मथुरा। वृंदावन में भागलपुर की सुजाता की सेवाओं की जानकारी ब्रज के बौद्धिक जगत को नहीं है। बहुआयामी व्यक्तित्व की धनी, भागलपुर में रहने वाली सुजाता वृंदावन में विधवाओं के दुःख को साझा करने के लिए 1200 किलोमीटर की दूरी तय करती हैं। वृंदावन में टटिया आश्रम के पास सुजाता का दो मंजिला आशियाना है। भागलपुर में पिता द्वारा दी गई जमीन को बेचकर वृंदावन में मकान बनाने का मक्सद स्वयं का शांति और कृष्ण भक्ति में लीन होना नहीं था बल्कि कृष्ण भक्ति में लीन विधवाओं को सुख सुविधा देना था। सुजाता तो पूरे देश में घूम घूम कर गांधी जी के सन्देश को सेमिनार और गोष्ठियों में अपनी तकरीर से दे रही हैं।

यह भी पढ़ें- भतीजे ने चाचा को चाकू से गोदा, जानिए हैरान करने वाला मामला

समय मिलता है तो वृंदावन आती हैं और कुछ दिन अपने मकान में रह रहीं करीब एक दर्जन महिलाओं के साथ पूजा पाठ, बातचीत करती हैं और खाती पीती हैं ताकि उन्हें एक परिवार जैसे माहौल का अहसास हो। मकान में एक सेवक भी है जो उनकी अनुपस्थिति में महिलाओं की सभी जरूरतों का प्रबंध करता है।
सुजाता का मानना है कि गाँधी जी के अनुसार सम्पन्न लोगों को अपनी आमदनी का 80 फीसदी दूसरों के लिए सामाजिक कार्यों पर खर्च करना चाहिए। मैं तो 30 फीसदी ही कर पाती हूं।

यह भी पढ़ें- भाकियू ने किया वन विभाग कर्मियों का घेराव, लगाया ये आरोप

सुजाता के नाना और पिता सब लोगों ने स्वतंत्रता आंदोलन में हिस्सा लिया था, सो सुजाता को विरासत में देशप्रेम भी मिला और सम्पन्नता भी। सुजाता भागलपुर में प्रोफेसर रहीं, वकालत भी की लेकिन धनोपार्जन के इन ठिकानों से अलग हो देश और समाज का काम करने का बीड़ा उठाया। सुजाता भागलपुर के पास के गांव में एक चैरिटेबिल शिक्षा केंद्र का संचालन करती हैं। महिलाओं की शिक्षा को महत्वपूर्ण मानती हैं। सुजाता की यह सेवा एक दशक से ज्यादा पुरानी है। वृंदावन में सैंकड़ों समाजसेवी है, सैंकड़ों खोजी पत्रकार हैं लेकिन वृंदावन में सच्चे समाजसेवियों की पहचान कोई नहीं कर पाया। दरअसल, अच्छाइयां ज्यादा दिन दबी ढ़की रहती हैं, सच्चा समाजसेवी इसके प्रचार प्रसार से परहेज भी रखता है। बुराइयां तो हमें आँख मीचे भी दिखाई दे जाती हैं। सुजाता को सच्चे समाजसेवी की श्रेणी में रखा जा सकता है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned