मेरठ में क्रिकेट के विवाद में फायरिंग के दौरान दो सगे भाइयों की हत्या, तनाव के बाद फोर्स तैनात

Highlights

  • जनपद के मुंडाली क्षेत्र के गांव जिसोरा की घटना
  • दोनों पक्षों में जमकर संघर्ष के बाद हुई फायरिंग
  • पुलिस ने देर रात दो आरोपियों को गिरफ्तार किया

 

By: sanjay sharma

Published: 20 May 2020, 09:33 AM IST

मेरठ। कोरोना संक्रमण से चल रहे लॉकडाउन में जनपद के मुंडाली क्षेत्र के गांव जिसोरा में क्रिकेट के विवाद में दो पक्षों के दौरान जमकर संघर्ष और फायरिंग हुई। इसमें दो सगे भाइयों की हत्या कर दी गई। दूसरे पक्ष के प्रधान समेत दर्जनभर लोगों पर आरोप लगे हैं। मंगलवार की देर रात चार आरोपियों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। गांव में तनाव बना हुआ है और फोर्स तैनात कर दी गई है। आला अफसरों ने भी मौके पर पहुंचकर स्थिति की जानकारी ली।

यह भी पढ़ेंः रेड जोन में शामिल इस जनपद में यूपी बोर्ड की कॉपियां जांचने का काम शुरू, शिक्षकों को बरतनी पड़ रही ये सावधानी

पुलिस के अनुसार यह विवाद पूर्व प्रधान नियाज मोहम्मद और अजबर पक्ष के बीच हुआ है। सोमवार को दोनों पक्षों के लोग क्रिकेट खेल रहे थे। इसी दौरान दोनों के बीच विवाद हुआ था। इसको लेकर मंगलवार को दोनों के बीच संघर्ष हो गया। गोलीबारी के दौरान अजबर के दो बेटों खालिद (20) व मजीद (18) को गोली लगी। खालिद की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि माजिद ने अस्पताल ले जाते समय दम तोड़ दिया। दो भाइयों की हत्या के बाद गांव में सनसनी फैल गई। सूचना पर सीओ किठौर और एसओ मुंडाली मौके पर पहुंचे और शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

यह भी पढ़ेंः क्वारंटाइन सेंटर में बदइंतजामी का वीडियो हुआ वायरल, ठहरने से लेकर खाने तक की व्यवस्था पर उठाए सवाल

पुलिस ने आरोपी पूर्व प्रधान और उसके परिवार की तलाश में ताबड़तोड़ दबिश दी। पूर्व प्रधान मौके से फरार हो गया जबकि पुलिस ने उसके परिवार के चार लोगों को हिरासत में ले लिया है। देर रात तक गांव में तनाव की स्थिति बनी रही। सीओ किठौर रामानंद कुशवाहा ने बताया कि आरोपी पूर्व प्रधान और उसके पुत्र की तलाश में देर रात तक ताबड़तोड़ दबिश दी गई। दोनों को देर रात गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस ने आरोपी पक्ष के चार लोगों को भी हिरासत में लिया है। अन्य की तलाश जारी है।

Show More
sanjay sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned