Meerut: ग्रामीण क्षेत्रों में डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देंगी ये महिला, जानिए पूरा मामला

Highlights:

-गांव में टेक्नोलाजी को बढावा देने की दिशा में करेंगी काम
-ट्रेनिंग के बाद कुछ नए ही अंदाज में दिखाई देगी गांव में सखी
-बैंक सखी घर-घर जाकर लोगों को देंगी जानकारी

By: Rahul Chauhan

Updated: 30 Jun 2020, 12:20 PM IST

मेरठ। हाथ में मोबाइल और आधुनिक ड्रेस से लैस। कुछ ऐसा होगा बैंक करेस्पांडेट सखी का नया रूप। बता दें कि ग्रामीण क्षेत्रों में डिजिटेल पेमेंट और टेक्नालाजी को बढ़ावा देने के उदेश्य से ही बैंक सखी को नियुक्त किया जा रहा है। इन बैंक सखी को ग्रामीण अजीविका मिशन के तहत ट्रेनिंग दी जाएगी। उसके बाद इनकी प्रत्येक गांव में नियुक्ति की जाएगी।

यह भी पढ़ें : UP के इस शहर में Technology Hub खोलेगी Microsoft, 4000 लोगों को मिलेगा रोजगार

इसका उदेश्य ग्रामीण क्षेत्र में चल रही योजनाओं का लाभ गांव में लोगों को बैंक के स्थान पर बैंक सखी के माध्यम से मिल सकेगा। वहीं डिजिटेल पेमेंट को बढावा भी दिया जाएगा। बैंक सखी टेक्नालाजी का प्रयोग करते हुए ग्रामीण परिवारों और स्वयं सहायता समूहों में डिजिटल ट्राजेक्शन बढ़ाने और वंचित परिवारों के फाइनेंशियल इन्क्लूजन के लिए यह एक सशक्त माध्यम होंगी।

यह भी पढ़ें: पिटाई का विराेध करने पर कांस्टेबल ने ई-रिक्शा चालक को गाेली मारी, हालत गंभीर

ब्रंडिंग व ड्रेस कोड:-

राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन बीसी सखी के ब्रैंडिंग की व्यवस्था करेगा और एनआईएफटी या अन्य संस्था के साथ मिलकर ड्रेस कोड तय करेगा। प्रत्येक बैंक सखी केा दो ड्रेस प्रदान की जाएंगी।

बैंक और योजना जनता के द्वार:-

बता दे कि अभी ग्रामीण क्षेत्रों में बहुत सी योजनाएं ऐसी हैं जिसका लाभ शत प्रतिशत ग्रामीणों तक नहीं पहुंच पा रहा है। बैंक में भी ग्रामीण जाने से बचते हैं। बीसी सखी के माध्यम से योजनाओं को ग्रामीणों के घर-घर पहुंचाना और बैंक जनता के द्वार की परिकल्पना को साकार करने के उद्देश्य को साकार करने के लिए ही यह योजना क्रियान्वित की गई है। इस बारे में सीडीओ ईशा दुहून ने बताया कि बैंक सखी के लिए काफी संख्या में महिला स्वयं सहायता समूह में कार्यरत युवतियों ने आवेदन किए हैं। जल्द ही इनकी नियुक्ति की जाएगी।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned