डेंगू को लेकर सख्ती: एक ही घर में 2 बार मिला लार्वा तो भरना होगा 5000 का जुर्माना, तीसरी बार पर FIR

मेरठ जिले में बढ़ते डेंगूू के मामलों ने बढ़ाई स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम की चिंता, जिले में डेंगू पीड़ित मरीजों की संख्या पहुंची 100 के ऊपर।

By: lokesh verma

Published: 22 Sep 2021, 01:47 PM IST

मेरठ. जिले में डेंगू के बढ़ते मामले चिंता का कारण बन रहे हैं। डेंगू को लेकर अब स्वास्थ्य विभाग के साथ ही प्रशासन भी सख्त हो चला है। इसको लेकर अब स्वास्थ्य विभाग के मलेरिया डिपार्टमेंट ने अपनी कई टीमों को जिले के ग्रामीण और शहरी क्षेत्र में उतारा है, जिसको लेकर चेतावनी भी जारी की गई है। अगर पहली बार में डेंगू का लार्वा मिलता है तो चालान किया जाएगा। दूसरी बार उसी जगह पर डेंगू का लार्वा पाए जाने पर जुर्माना लगाया जाएगा और तीसरी बार अगर फिर से वहीं पर डेंगू का लार्वा मिलता है तो सीधे एफआईआर की जाएगी।

जिला मलेरिया अधिकारी सत्यप्रकाश ने बताया जिले में अब तक डेंगू के लार्वा मिलने पर 45 चालान किए जा चुके हैं। मंगलवार को भी जिले में डेंगू के 20 और नए डेंगू के मरीज मिले हैं। इसके साथ हीं जिले में कुल डेंगू पीड़ित मरीजों की संख्या 100 से ऊपर पहुंच गई है। अब तक इनमें से 54 ठीक हो चुके हैं, बाकी बचे 46 मरीजों का इलाज चल रहा है। जिन इलाकों में मलेरिया के नए मरीज मिलें हैं, वहां मलेरिया विभाग ने एंटी लार्वा स्प्रे और फॉगिंग कराया है। इसके आलावा जिला मलेरिया विभाग एक अभियान चलाकर अपनी टीम को सर्वे करने के लिए लोगों के घर-घर भेज रही है। सर्वें टीम को सैनिक विहार और रोहटा रोड स्थित सरस्वती विहार कालोनी के नौ घरों में लार्वा मिला है। जिन घरों में लारवा मिला है, उन घरों को विभाग की तरफ से वार्निंग नोटिस भेजा गया है। एक सप्ताह के भीतर टीम फिर से निरीक्षण किया जाएगा। अगर दोबारा सर्वे में टीम को लार्वा मिला तो इस बार विभाग जुर्माना लगाएगी।

यह भी पढ़ें- एनसीआर और वेस्ट यूपी में जोरदार बारिश, कई इलाकों की बिजली गुल, जलभराव से जनजीवन ठप

जिला मलेरिया विभाग की सर्वे टीम को मेडिकल कॉलेज के बॉयज हॉस्टल में रखे 24 कूलरों में मच्छरों के लारवा का ढेर मिला था। साथ ही इसी दिन सर्वे टीम को फाजिलपुर, अनूपनगर और न्यू सैनिक विहार कालोनी के 34 घरों में मच्छरों का लारवा भी मिला था। मामले को गम्भीरता से लेते हुए जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य विभाग, मलेरिया विभाग और नगर निगम समेत अन्य विभागों के साथ बैठक की। इस बैठक में उन्होंने विभागों को डेंगू पर लगाम लगाने के लिए अपनी-अपनी जिम्मेदारी वहन करने का आदेश दिया है। जिला मलेरिया अधिकारी सत्यप्रकाश ने बताया कि नियमानुसार, अगर दोबारा निरीक्षण के दौरान पानी भरा हुआ और उसमें लार्वा मिलता है तो नगर निगम पांच हजार रुपये तक जुर्माना वसूल सकता है।

यह भी पढ़ें- दिल्ली से सटे गाजियाबाद में प्रदूषण फैलाने वाली 17 फैक्ट्री होंगी बंद, 12 के बिजली कनेक्शन काटने के आदेश

lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned