scriptMeerut president of Jamiat Ulama Hind said this about Indian saree | Hijab Case Controversy : हिजाब को छिड़ी बहस के बीच जमीयत उलेमा—ए—हिन्द अध्यक्ष ने ​भारतीय साड़ी को लेकर दिया ये बयान | Patrika News

Hijab Case Controversy : हिजाब को छिड़ी बहस के बीच जमीयत उलेमा—ए—हिन्द अध्यक्ष ने ​भारतीय साड़ी को लेकर दिया ये बयान

Hijab Case Controversy हिजाब को लेकर देश में बहस छिड़ी हुई है। वहीं मेरठ जमीयत उलेमा—ए—हिन्द के अध्यक्ष और शहर काजी जैनुस्साजिददीन ने कहा कि शरीयत में हिजाब को महिलाओ के लिए पाक माना गया है। ठीक वैसे ही जैसे हिंदू महिलाएं आज भी गांव में साड़ी पहनती हैं और घूंघट करती हैं।

मेरठ

Updated: February 16, 2022 02:40:29 pm

Hijab Case Controversy जमीयत उलेमा—ए—हिन्द के मेरठ अध्यक्ष काजी जैनुस्साजिदृीन ने कहा कि कर्नाटक के हिजाब प्रकरण को लेकर जो हंगामा हो रहा है। वह गलत है। ऐसा नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि शरीयत में यह कहा गया है कि महिलाओं को अपना पूरा शरीर ढककर रखना चाहिए। सिर्फ आंखें खुली होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हमारे देश में सभी धर्मों के लोग निवास करते हैं। यहां पर सिख पगड़ी पहनते हैं दाढी रखते हैं।
Hijab Case Controversy : हिजाब को छिड़ी बहस के बीच जमीयत उलमा—ए—हिंद अध्यक्ष ने ​भारतीय साड़ी को दिया ये बयान
Hijab Case Controversy : हिजाब को छिड़ी बहस के बीच जमीयत उलमा—ए—हिंद अध्यक्ष ने ​भारतीय साड़ी को दिया ये बयान
हिंदूओं में पंडित चोटी रखते हैं तिलक लगाते हैं। हमारे मजहब में महिलाएं हिजाब करती हैं। तो इससे गलत क्या है। इस देश की परंपरा और सभ्यता में पर्दा है। यह कोई धार्मिक मामला नहीं बल्कि कपड़े पहनने से जुड़ा है और कपड़े सभी पहनते हैं। उन्होंने कर्नाटक में हुए हिजाब प्रकरण को लेकर गैरजरूरी बताया। उन्होंने कहा कि हिजाब सभी महिलाओं और लड़कियों के लिए जरूरी है। जिसके अंदर जितनी शर्म और हया है, उसके लिए पर्दा उतना ही जरूरी है। अगर शर्म-हया नहीं तो पर्दा भी जरूरी नहीं है।
यह भी पढ़े : Ukraine-Russia Conflict : यूक्रेन में खाद्य पदार्थों की कीमतें आसमान पर, हवाई टिकट के दाम बढ़े दस गुना, छात्रों ने बताए भयावह हालात


शहर काजी ने कहा कि हर नागरिक पर्दा करता है। वह कपड़े पहनता है। यह हिजाब ही है। पर्दा सभी के लिए जरूरी है। कहा कि हमारे देश का माहौल ऐसा है कि यहां की परंपरा और सभ्यता में पर्दा है। यह कोई धार्मिक मामला नहीं, बल्कि कपड़े पहनना ही हिजाब है। न जाने इसको बिना वजह इतना तूल क्यों दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अगर साउदी अरब में चले जाए तो वहां पर महिलाओ के हाथ और पैर तक ढके होते हैं। वहां पर दुकान पर समान बेचने वाली महिलाएं भी हाथ में दस्ताने और पैरों में मोजें पहनती हैं। उन्होंने कहा कि आज भी भारतीय महिलाएं गांव और शहरों में साड़ी को पहनती हैं। साड़ी से अच्छा पहचावा कोई नहीं है। उन्होंने कहा कि साड़ी से अच्छा हिजाब कोई दूसरा नहीं है। उन्होंने कहा कि साड़ी पहनकर हिंदू महिलाएं घूघट करती हैं और पर्दे में रहती हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

यूपी में प्रशासनिक फेरबदल, 4 IAS और 3 PCS किए गए इधर से उधरएंकर रोहित रंजन को रायपुर पुलिस नहीं कर पाई गिरफ्तार, अपने ही दो कर्मचारी के खिलाफ जी न्यूज़ ने दर्ज कराई FIRTwitter ने केंद्र के आदेश को दी कर्नाटक हाई कोर्ट में चुनौती, लगाया ये आरोपबिहार में लैंड नहीं हो सकी फ्लाइट, वापस दिल्ली एयरपोर्ट लौटीगुजरात में भारी बारिश की चेतावनी, एनडीआरएफ की नौ टीम तैनातIndian Air Force:पहली बार पिता-पुत्री की जोड़ी ने साथ उड़ाया विमानमहाराष्ट्र में शिवसेना के टूटने से डरे अरविंद केजरीवाल, अपने विधायकों से की ये अपीलपश्चिम बंगाल में कानून व्यवस्था को लेकर चिंतित BJP नेता सुवेंदु अधिकारी, गृह मंत्री अमित शाह लिखा पत्र
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.