बीजेपी को वोट देने पर मुस्लिम महिला को मिली ये खौफनाक सजा

   बीजेपी को वोट देने पर मुस्लिम महिला को मिली ये खौफनाक सजा
bjp voter ko pita

पुलिस ने नहीं सुनी तो सीएम आदित्यनाथ आैर माेदी से की शिकायत

मेरठ। भारतीय संविधान के तहत अपनी मर्जी वोट देना व्यक्ति का हक है, लेकिन मुस्लिम महिला को अपने इसी हक पर अमल करने का हर्जाना चोट खाकर भरना पड़ा। पीड़िता का आरोप है कि उसके बीजेपी को वोट देने का पता लगने पर उसी के गांव में रहने वाले बहुजन समाज पार्टी के छोटे नेता ने उस पर हमला बोल दिया। आरोपी ने अपने साथियों संग महिला के घर में घुसकर उसकी पिटार्इ की। महिला को गंभीर रूप से घायल कर आरोपी फरार हो गये। उधर महिला के थाने पहुंचने पर पुलिस ने भी उसका साथ देने की जगह टरका दिया। अब पीड़िता ने एसएसपी से न्याय आैर आरोपियों को सजा दिलाने की गुहार लगार्इ है।


जानकारी के अनुसार मेरठ के जानी कलां निवासी नौसाबा अपने परिवार के साथ यहां रहती है। वह पिछले 6 दिन से मेरठ के जिला अस्पताल में भर्ती थी । उसे इस हाल में पहुंचाने वाला कोई और नहीं बल्की उसी के गाँव का बसपा नेता हनीफ और उसके साथी हैं । पीड़िता का आरोप है कि विधानसभा चुनाव मतदान में नौसाबा ने बीजेपी को वोट दिया था। इसका जिक्र उसने अपने ही पड़ोसी कर दिया। उसके बाद गांव के दबंग बसपा नेता हनीफ और उसके साथियों को जब इस बात का पता चला तो उन्होंने नौसाबा से गाली-गलौच की। इतना ही नहीं हनीफ ओर उसके साथी महिला को अकेला देख उसके घर में घुस गये। आरोप है कि यहां उन्होंने पीड़ित महिला नौसाबा के साथ मारपीट की और उसे मिट्टी का तेल डालकर जान से मारने की कोशिश की। जिसकी शिकायत को लेकर नौसाबा कप्तान आॅफिस पहुंची।

थाने पहुंचने पर भी पुलिस ने पीड़िता को ही टरकाया

पीड़िता नौसाबा का आरोप है कि वह दबंगों की पिटार्इ के बाद अपनी फरियाद लेकर कोतवाली पहुंची, लेकिन पुलिस ने उसकी शिकायत सुनने की जगह वापस भगा दिया। इसके बाद पीड़िता अपनी फरियाद लेकर एसएसपी आॅफिस पहुंची। यहां अपनी व्यथा बताने पर पीड़ित की शिकायत ली गर्इ। पुलिस को मामले की जांच के आदेश दिये गये है। 

इसलिए मुस्लिम समुदाय की महिलाआें ने भाजपा को दिया वोट

शऱीयत के तीन तलाक के मुद्दे को अपने संकल्प पत्र में शामिल करने के बाद बीजेपी को मुस्लिम महिलाओं का भी विधान सभा चुनाव में जबरदस्त समर्थन मिला है। नौसाबा ने बीजेपी को वोट दिया और मुसीबत मोल ले ली।नौसाबा की ये हालत जानी थाने के थानेदार को नहीं दिखी और नौसाबा की फरियाद पर उसने उसे थाने से बिना केस दर्ज किये भगा दिया।नौसाबा ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और पीएम नरेन्द्र मोदी को अपनी दरखास्त भेजी है और मेरठ के एसएसपी से भी इंसाफ की गुहार लगार्इ है।
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned