कंगना रनौत मामले में हाईकोर्ट की राउत को फटकार, पूछा - क्या दूसरों को ऐसे शांत करेंगे?

कंगना रनौत के विरूद्ध की गई टिप्पणी के लिए हाई कोर्ट ने संजय राउत को फटकारा।
संजय राउत के वकील ने भी मानी गलती, कहा उन्हें अधिक जिम्मेदार होना चाहिए था।

कंगना रनौत के बंगले में की गई तोड़-फोड़ की कार्रवाई के मामले में सुनवाई करते हुए बंबई हाई कोर्ट ने शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउत को फटकार लगाई है। हाईकोर्ट ने राउत से पूछा कि क्या एक सांसद को दूसरों को धमकी देनी चाहिए। जस्टिस एस जे कत्थावाल और आर आई चागला की पीठ ने कंगना के खिलाफ शिव सेना नेता संजय राउत के बयान को लेकर आपत्ति जताई।

उड़ानों की संख्या कम करने के विवाद के बीच लुफ्थांसा ने जर्मनी और भारत के बीच सभी उड़ानें की रद्द

Cat Que Virus: आईसीएमआर ने किया अलर्ट, देश में मुश्किल बढ़ा सकता है चीन का नया वायरस

जजों ने संजय राउत को लगाई फटकार
जजों की पीठ ने कहा, "हम उनके बयान से सहमत नहीं हैं, लेकिन क्या इसका जवाब घर तोड़कर देंगे? क्या एक सांसद के लिए यह उचित हैं?" उन्होंने आगे कहा, "हम भी महाराष्ट्रियन हैं। हम सभी को महाराष्ट्रियन होने का गर्व है। लेकिन किसी का घर नहीं गिराने लगेंगे। क्या यह जवाब देने का तरीका है? क्या यह आपके लिए शोभनीय है?"

इससे पहले संजय राउत के वकील ने हलफनामा दाखिल करते हुए कहा कि राउत ने किसी का नाम नहीं लिया और न ही धमकी दी थी। इस पर पीठ ने राउत के इंटरव्यू का उल्लेख किया जिसमें राउत ने उखाड़ने की बात कही। कोर्ट ने पूछा कि इसका क्या मतलब है?

सेना की रिपोर्ट में खुलासा, घटिया गोला बारूद के कारण 6 वर्षों में 27 जवान शहीद, 159 घायल

संजय राउत की वकील ने मानी गलती
हाई कोर्ट की फटकार के बाद राउत की वकील ने गलती मानते हुए कहा कि उन्हें एक राज्यसभा सदस्य होने के नाते अधिक जिम्मेदार होना चाहिए था। वकील ने कहा कि राउत को ऐसा नहीं कहना चाहिए था। उन्होंने जो भी कहा, उसमें धमकी भरा कोई संदेश नहीं था वरन केवल यही कहा था कि याचिकाकर्ता बेहद बेईमान है। और यही वह टिप्पणी थी जिसके बाद याचिकाकर्ता ने कहा कि महाराष्ट्र सुरक्षित नहीं है।

कंगना के बंगले में हुई तोड़फोड़ में राउत भी है प्रतिवादी
उल्लेखनीय है कि नौ सितंबर को कंगना के बंगले में अवैध निर्माण करने का आरोप लगाते हुए बृह्नमुंबई महानगर पालिका (BMC) ने बंगले के कुछ हिस्से को गिरा दिया था। इस पर कंगना ने कोर्ट में अपील कर 2 करोड़ रुपए के मुआवजे की मांग की थी और इस मामले में संजय राउत को भी प्रतिवादी बनाया था। कोर्ट ने अपील सुनते हुए बंगले में तोड़-फोड़ की कार्रवाई पर रोक लगा दी थी।

Show More
सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned