कुंभ से लौटने वाले श्रद्धालुओं को क्वारंटीन सेंटर में रखने पर हो रहा विचार - पेडनेकर

बीएमसी चेयरमैन किशोरी पेडनेकर ने कहा कि ज्यादातर लोग कोरोना के संबंध में सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन का पालन कर रहे हैं, मगर कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो समस्या खड़ी कर रहे हैं।

 

नई दिल्ली।

बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) की महापौर किशोरी पेडनेकर ने कहा कि महाराष्ट्र में कोरोना (Coronavirus) संक्रमण के सबसे अधिक मामले अभी भी आ रहे हैं। कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित राज्य अब भी महाराष्ट्र बना हुआ है, ऐसे में यहां लॉकडाउन लगाना जरूरी हो गया है।

यह भी पढ़ें:- संत की कोरोना संक्रमण से हुई मौत के बाद प्रधानमंत्री ने महाकुंभ को लेकर की यह अपील

पेडनेकर के मुताबिक, ज्यादातर लोग कोरोना के संबंध में सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन का पालन कर रहे हैं, मगर कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो समस्या खड़ी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुंबई में रहने वाले 95 प्रतिशत लोग सभी गाइडलाइन और प्रतिबंधों का पालन कर रहे हैं। सिर्फ पांच प्रतिशत लोग ऐसे हैं, जो नियमों की और आदेशों की अवहेलना कर रहे हैं तथा दूसरों के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं। पेडनेकर ने कहा, मुझे लगता है कि मौजूदा स्थिति को देखते हुए राज्य में संपूर्ण लॉकडाउन लगाया जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें:- शनिवार और रविवार को भगवान जगन्नाथ के दर्शन नहीं कर पाएंगे श्रद्धालु, इस वजह से लिया गया फैसला

वहीं, पेडनेकर ने हरिद्वार के कुंभ मेले से स्नान कर लौटे संतों और श्रद्धालुओं से भी अनुरोध किया कि वे संक्रमण न फैले, इसके लिए खुद को आइसोलेट कर लें। उन्होंने कहा कि बीएमसी इस पर भी विचार
कर रही है कि कुंभ से लौटे लोगों को क्वारंटीन करने की व्यवस्था बनाई जाए। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि कुंभ मेले से अपने-अपने राज्यों में लौटने वाले श्रद्धालु कोरोना को प्रसाद के तौर पर बांटेंगे। इन सभी लोगों को अपने खुद के खर्चे पर अपने-अपने राज्यों में आइसोलेट होना चाहिए। मुंबई में भी ऐसे श्रद्धालुओं के लौटने पर उन्हें क्वारंटीन सेंटर में रखने पर विचार हो रहा है।

COVID-19 virus
Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned