कोरोना ने दी जगन्नाथ मंदिर में भी दस्तक, शनिवार-रविवार को भक्त नहीं कर सकेंगे भगवान के दर्शन

ओडिशा में भी कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। यही नहीं वायरस ने पुरी स्थित जगन्नाथ मंदिर में भी दस्तक दे दी है। कई पुजारियों समेत भक्तों के संक्रमित होने के बाद हर शनिवार और रविवार को मंदिर को सैनिटाइज करने का फैसला लिया गया है। इस वजह से हर हफ्ते इन दोनों दिन मंदिर के कपाट श्रद्धालुओं के लिए बंद रहेंगे। यह प्रक्रिया अगले आदेश तक जारी रहेगी।

 

नई दिल्ली।

देशभर में कोरोना (Coronavirus) संक्रमण की दूसरी लहर का कहर जारी है। विभिन्न राज्यों की तरह ओडिशा में भी इस वायरस का प्रकोप तेजी से बढ़ रहा है। वहीं, राज्य में पुरी स्थित जगन्नाथ मंदिर में भी वायरस ने दस्तक दे दी है। मंदिर परिसर में वायरस के आने से कई पुजारी, मंदिर प्रशासन से जुड़े लोग और श्रद्धालु संक्रमित हो चुके हैं। इसको देखते हुए प्रत्येक हफ्ते शनिवार और रविवार को मंदिर बंद रखने का फैसला किया गया है। इन दोनों ही दिन में मंदिर को सैनिटाइज किया जाएगा। अब भक्तों को इन दो दिनों में मंदिर में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। यह प्रक्रिया अगले आदेश तक जारी रहेगी।

मंदिर परिसर दो दिन सैनिटाइज होगा
मंदिर प्रशासन के मुताबिक, श्रद्धालुओं के लिए यह आदेश 24 अप्रैल से लागू होगा। श्री जगन्नाथ मंदिर प्रशासन के एक अधिकारी के मुताबिक, ज्यादातर श्रद्धालु भगवान के दर्शन के लिए शनिवार और रविवार को ही आते हैं। यही वजह है कि इन दो दिनों में मंदिर को बंद रखने का फैसला लिया गया है, जिससे भीड़ नहीं हो और मंदिर को अच्छी तरह सैनिटाइज करने का समय भी मिल जाए।

यह भी पढ़ें:- कोरोना की दूसरी लहर का कहर, राज्यों में बेकाबू हुए हालात, जानें लॉकडाउन को लेकर सरकार का क्या है फैसला

रथयात्रा पर लग सकता है ग्रहण
मंदिर प्रशासन के अनुसार, यदि स्थिति नहीं सुधरी तो गत वर्ष की तरह इस साल भी भक्तों के बिना ही रथयात्रा आयोजित करनी पड़ेगी। तब यह उत्सव सीमित संसाधनों में आयोजित होगा। सेवकों को रथयात्रा में शामिल होने की अनुमति भी तभी मिलेगी, जब वे अपनी आरटीपीसीआर निगेटिव टेस्ट रिपोर्ट दिखाएंगे। यही नहीं, मंदिर में प्रवेश भी उन्हीं श्रद्धालुओं को दिया जाएगा, जो अपनी आरटीपीसीआर निगेटिव टेस्ट रिपोर्ट साथ में ले आएंगे। इस रिपोर्ट के बिना मंदिर परिसर में उन्हें प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। यह रिपोर्ट अधिकतम चार दिन यानी 96 घंटे से अधिक पुरानी नहीं होनी चाहिए। इसके अलावा, श्रद्धालुओं के पास कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लेने की रिपोर्ट भी होना जरूरी है।

यह भी पढ़ें:- दूसरी लहर का कहर: तिहाड़ जेल में कोरोना विस्फोट, दो कैदियों की मौत, अब तक 190 कैदी हुए संक्रमित

राज्य में अब तक साढ़े तीन लाख से ज्यादा केस
बता दें कि राज्य में शुक्रवार को कोरोना संक्रमण के तीन हजार 108 नए केस सामने आए हैं। राज्य में अब कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या बढक़र तीन लाख 61 हजार 450 हो गई है। वहीं, बीते 24 घंटे में तीन मरीजों की इस महामारी की वजह से मौत भी हुई है। राज्य में अब तक इस महामारी से मरने वालों की संख्या एक हजार 938 हो गई है।

COVID-19 virus
Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned