Lockdown in India 2021: कोरोना की दूसरी लहर का कहर, राज्यों में बेकाबू हुए हालात, जानें लॉकडाउन को लेकर सरकार का क्या है फैसला

देशभर में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का कहर जारी है। कई राज्यों में स्थिति लगातार बिगड़ रही है, मगर राज्य सरकारें इस बार लॉकडाउन लगाने को तैयार नहीं दिख रही हैं। हालांकि, नाइट कफ्र्यू घोषित कर शिक्षण संस्थाओं को अगले आदेश तक के लिए बंद कर दिया गया है।

 

नई दिल्ली।

देश में कोरोना (Coronavirus) की दूसरी लहर का कहर जारी है। कई राज्यों में स्थिति नियंत्रण से बाहर होती जा रही है। स्वास्थ्य विभाग हर रोज जो आंकड़े जारी कर रहा है, वह नए रिकॉर्ड बना रहे हैं। बीते 24 घंटे में कोरोना के नए केस का आंकड़ा करीब दो लाख पहुंच गया है। एक दिन में अब तक के सभी आंकड़ों में यह सबसे अधिक है। कोरोना संक्रमण के ये आंकड़े काफी डराने वाले हैं और माना जा रहा है कि अगर यही स्थिति रही तो देश एक बार फिर टोटल लॉकडाउन की ओर बढ़ेगा।

दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पंजाब, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, केरल, तमिलनाडु, तेलंगान और गुजरात दस ऐसे राज्य हैं, जहां स्थिति चिंताजनक होती जा रही है। एक्टिव केस की संख्या में भारत लगातार ऊपर जा रहा है। कई राज्यों में सरकारों ने कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए आंशिक रूप से लॉकडाउन या नाइट कफ्र्यू लगाया है। वहीं, महाराष्ट्र ने यह कनफर्म कर दिया है कि वह राज्य में अभी लॉकडाउन तो नहीं लगा रहा, मगर धारा 144 लागू कर दी गई है और सख्ती से इसका पालन करने को कहा गया है।

महाराष्ट्र में सबसे बुरा दौर
कोरोना महमारी का सबसे बुरा दौर महाराष्ट्र में देखने को मिल रहा है। माना जा रहा था कि संक्रमण को बढऩे से रोकने के लिए पिछले साल की तरह इस बार दूसरी लहर में भी राज्य सरकार लॉकडाउन का ऐलान कर सकती है, मगर उद्धव ठाकरे ने कल बैठक के बाद धारा 144 लागू करने का ऐलान किया है। वहीं, कई शहरों में नाइट कफ्र्यू जैसे सख्त कदम भी उठाए गए हैं। राज्य सरकार ने नवरात्रि और रमजान को लेकर भी एसओपी जारी कर दी है।

यह भी पढ़ें:- Corona के बढ़ते खतरे के बीच सीएम केजरीवाल का बड़ा ऐलान, दिल्ली में लगा वीकेंड लॉकडाउन

दिल्ली में कार्यक्रमों पर लगी रोक
कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 30 अप्रैल तक रात दस बजे से सुबह दस बजे तक नाइट कफ्र्यू लगा दिया है। सभी सामाजिक, धार्मिक, सामाजिक और राजनीतिक कार्यक्रमों पर रोक लगा दी गई है। बसों में सभी सीटों पर बैठने की मिली छूट को खत्म करते हुए अब सिर्फ 50 फीसदी सवारी बैठाने के निर्देश दिए गए हैं। यही स्थिति मेट्रो में भी है। स्कूल-कॉलेज और कोचिंग संस्थानों को भी अगले आदेश तक के लिए बंद कर दिय गया है।

यह भी पढ़ें:- कंफ्यूजन से बचने के लिये जानें : किस शहर में कब तक के लिए लगा लॉकडाउन, देखें लिस्ट

मध्य प्रदेश के कई जिलों में लॉकडाउन बढ़ाने का निर्णय
राज्य में कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इसकी रफ्तार पर ब्रेक लगाने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कई जिलों के अधिकारियों संग समीक्षा बैठक की है, जिसके बाद उन जिलों में जहां खतरा अधिक है और एक्टिव केसों की संख्या ज्यादा है वहां लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। बड़वानी, राजनगढ़, विदिशा में 19 अप्रैल सुबह बजे तक लगातार लॉकडाउन रहेगा। वहीं, बालाघाट, नरसिंहपुर, सिवनी और जबलपुर में 12 अप्रैल की रात से 22 अप्रैल की सुबह 6 बजे तक लॉकडाउन का आदेश जारी किया गया है। इसके अलावा, इंदौर, राऊ, महू, शाजापुर, और उज्जैन में भी 19 अप्रैल की सुबह 6 बजे तक लॉकडाउन रहेगा।

यह भी पढ़ें:- लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, प्रयागराज के बाद यूपी के 12 अन्य शहरों में लग सकता है रात्रि कर्फ्यू

यूपी सरकार ने भी सख्ती बढ़ाई
कोरोना संक्रमण के मामले बढऩे के बाद यूपी सरकार ने भी राज्य में सख्ती बढ़ा दी है। लखनऊ, कानपुर, प्रयागराज और वाराणसी समेत मेरठ, मुरादाबाद व सहारनपुर में भी नाइट कफ्र्यू लागू कर दिया गया है। राज्य के सबसे अधिक संक्रमित 12 जिलों में भी नाइट कफ्र्य लगा दिया गया है। हालांकि, कई और जिले हैं, जहां मामले लगातार बढ़ रहे हैं, जिसके बाद सरकार ने वहां के जिलाधिकारियों को फैसला लेने के लिए स्वतंत्र छोड़ दिया है। वहीं, लखनऊ में सिर्फ चिकित्सा संस्थानों को छोडक़र सभी संस्थानों को अगले आदेश तक के लिए बंद कर दिया गया है। योगी सरकार ने अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कोरोना संक्रमण कम करने के लिए कहा है। अधिकारियों से जरूरत पडऩे पर निजी अस्पतालों ओर होटलों को ओवरटेक करते हुए अस्थायी अस्पताल बनाने के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़ें:- स्कूल-कोचिंग बंद, पूरे Rajasthan में 11 घंटे का रात्रि कर्फ्यू, जानिए कब से लागू होगी नई गाइडलाइन

राजस्थान में 11 घंटे नाइट कफ्र्यू
राज्य में कोरोना संक्रमण के मामले बढऩे के बाद सरकार ने पूरे राजस्थान में 11 घंटे का नाइट कफ्र्यू लागू कर दिया गय है। वहीं, 16 अप्रैल से 30 अप्रैल तक के लिए स्कूल-कॉलेज और कोचिंग संस्थान भी बंद कर दिए गए हैं। इसके तहत, आठवीं, नौवीं और ग्यारहवीं कक्षा के छात्र प्रमोट होंगे। वहीं राजस्थान बोर्ड ने भी दसवीं और बारहवीं बोर्ड की परीक्षाओं को फिलहाल स्थगित कर दिया है।

कर्नाटक में लॉकडाउन अभी नहीं
राज्य के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के मुताबिक, अभी यहां लॉकडाउन को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई है। हालात पर अगले एक हफ्ते तक नजर रखी जाएगी, इसके बाद ही आगे फैसला होगा। उन्होंने कहा कि अभी राज्य में नाइट कफ्र्यू लगा हुआ है और अगर हालात बिगड़े तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आगे की स्थिति पर चर्चा करते हुए कोई फैसला लिया जाएगा।

पंजाब और हरियाणा में भी नाइट कफ्र्यू
पंजाब में हालात लगातार बिगड़ रहे हैं। वहां की सरकार ने राज्य में नाइट कफ्र्य लगा दिया है, जबकि चिकित्सा संस्थानों को छोडक़र बाकि संस्थानों को अगले आदेश तक के लिए बंद कर दिया गया है। यहीं नहीं राज्य में बोर्ड परीक्षाओं को भी अगले आदेश तक के लिए स्थगित कर दिया गया है। अमूमन ऐसी ही स्थिति हरियाणा में भी है। यहां भी शिक्षण संस्थानों को बंद करते हुए विभिन्न जिलों में नाइट कफ्र्यू लगा दिया गया है। हालांकि, दोनों ही राज्यों की सरकारें अपने यहां लॉकडाउन लगाने को लेकर तैयार नहीं हैं।

COVID-19
Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned