चंद्रयान-2 ने किया एक और कमाल, चंद्रमा के बाहरी वायुमंडल में आर्गन-40 का लगाया पता

  • चंद्रयान-2 ऑर्बिटर लगातारर जुटा रहा है चंद्रमा की महत्वपूर्ण जानकारी।
  • इस बार चंद्रमा के बाहरी वायुमंडल की संरचना को बारीकी से खंगाला।
  • इसरो ने ट्वीट कर दी चंद्रयान-2 ऑर्बिटर की इस नई उपलब्धि की सूचना।

नई दिल्ली। इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (इसरो) के चंद्रयान-2 के विक्रम ऑर्बिटर से संपर्क ना होने की परेशानी भले ही ना दूर हुई हो, लेकिन इसका ऑर्बिटर एक के बाद एक कमाल दिखाए जा रहा है। अब चंद्रयान-2 ऑर्बिटर ने एक और कमाल दिखाया है और चंद्रमा के बाहरी वातावरण में आर्गन-40 का पता लगा लिया है। बृहस्पतिवार रात को इसरो ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी।

आखिरकार चंद्रयान 2 ने दे दी ऐसी खुशखबरी, जिसका बेसब्री से था इंतजार, चांद की सहत पर मिला...

Big Breaking: इस दिन पता चल जाएगा कि कैसा है विक्रम लैंडर, इसरो को मिलेगी बिल्कुल पर्फेक्ट फोटो.

खगोल विज्ञानी चंद्रमा को चारों ओर से घेरे गैसों के आवरण को 'लूनर एक्सोस्फीयर' यानी चंद्रमा का बाहरी वातावरण कहते हैं। इसकी वजह यह है क्योंकि यह यह वातावरण इतना हल्का होता है कि गैसों के परमाणु एक-दूसरे से बहुत कम टकराते हैं।

#Breaking: इसरो का बड़ा खुलासा, यह थी चंद्रयान से संपर्क टूटने की असली वजह

जहां पृथ्वी के वायुमंडल में मध्य समुद्र तल के पास एक घन सेंटीमीटर में परमाणुओं की मात्रा 10 की घात 19 (यानी 10 के आगे 19 बार शून्य) होती है, चंद्रमा के बाहरी वायुमंडल में यह एक घनमीटर में 10 की घात 4 से 6 तक होते हैं यानी 10,000 से लेकर 10,00,000 तक।

चंद्रमा के इस बाहरी वायुमंडल को बनाने में आर्गन-40 (Ar) की महत्वपूर्ण भूमिका है। यह नोबल गैस (जो किसी के साथ क्रिया नहीं करतीं) का एक आइसोटोप्स (समस्थानिक) है। यह (आर्गन-40) पोटेशियम-40 के रेडियोधर्मी विघटन से उत्पन्न होती है।

चंद्रयान-2: ऑर्बिटर ने किया एक और कमाल, हर सैटेलाइट को पीछे कर हासिल की सफलता

इसकी हाफ लाइफ ~1,20,00,00,000 वर्ष है। रेडियोधर्मी पोटेशियम-40 न्यूक्लाइड चंद्रमा की सतह के काफी नीचे मौजूद होता है। यह विघटित होकर आर्गन-40 बन जाता है। इसके बाद यह चंद्रमा की अंदरूनी सतह में मौजूद कणों के बीच रास्ता बनाते हुए बाहर निकलकर बाहरी वायुमंडल तक पहुंचती है।

बड़ी खबरः पहली बार चंद्रमा की सतह पर लैंडर ने कर दिया ऐसा कमाल कि दुनियाभर में छा गया देश

इस अध्ययन के लिए चंद्रयान-2 ऑर्बिटर पर चंद्र एटमॉशफीयरिंग कंपोजिशन एक्सप्लोरर-2 (CHACE-2) पेलोड मौजूद है। एक न्यूट्रल मास स्पेक्ट्रोमीटर आधारित पेलोड है, जो 1-300 amu (परमाणु द्रव्यमान इकाई) की सीमा में चंद्रमा के उदासीन बाहरी वायुमंडल के घटकों (वायुमंडल बनाने वाले तत्वों) का पता लगा सकता है।

chace2_argon_detection1.jpg

इस पेलोड ने अपने शुरुआती ऑपरेशन के दौरान 100 किमी की ऊंचाई से चंद्रमा के बाहरी वायुमंडल में आर्गन-40 का पता लगाया है, और वो भी दिन-रात की विविधताओं को कैप्चर करते हुए।

ब्रेकिंगः चंद्रयान-2 ऑर्बिटर से खींची गई तस्वीरों की यह है हकीकत, हुआ बड़ा खुलासा

आर्गन-40 चंद्रमा की सतह पर तापमान में बदलाव और दबाव पड़ने पर संघनित होने वाली गैस है। यह चंद्रमा पर होने वाली लंबी रात (लूनर नाइट) के दौरान संघनित होती है। जबकि चंद्रमा पर भोर होने के बाद आर्गन-40 यहां से निकलकर चंद्रमा के बाहरी वायुमंडल में जाने लगती है।

बिग ब्रेकिंगः चंद्रयान 2 को लेकर के सिवन ने अचानक किया बड़ा ऐलान, कहा- अब हमें...

चंद्रमा पर दिन और रात के वक्त चंद्रयान-2 की एक परिक्रमा के दौरान आर्गन-40 में आने वाले अंतर को देखा गया। साथ में दी गई तस्वीर में बने ग्राफ में आर्गन-40 के संघनित होने और फैलने की प्रक्रिया को ग्राफ के रूप में दिखाया गया है।

Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned