देश में Corona Vaccination ने पकड़ी रफ्तार, एक हजार लोगों में साइड इफेक्ट के साथ 4 दिन में आंकड़ा इतने लाख हुआ पार

  • देश में Corona Vaccination ने पकड़ी रफ्तार
  • चार दिन में 6 लाख से ज्यादा लोगों ने लगवाया टीका
  • अब तक 1 हजार लोगों में दिखे साइड इफेक्ट

नई दिल्ली। कोरोना वायरस ( Coronavirus )महामारी से जंग के बीच भारत में वैक्सीनेशन शुरू हो चुका है। पहले दिन के मुकाबले जहां दूसरे दिन टीकाकरण ( Corona Vaccination ) को लेकर रफ्तार सुस्त पड़ी थी वहीं अब चार दिन में इस अभियान ने रफ्तार पकड़ना शुरू कर दिया है।

भारत में दो वैक्सीन सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड औऱ भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को आपातकालानी इस्तेमाल की मंजूरी मिलने के बाद इनके टीके पहले चरण के तहत 3 करोड़ देशवासियों को लगाए जा रहे हैं। आईए जानते हैं चार दिन में देश में कितने लोगों को कोरोना का टीका लगाया जा चुका है।

गणतंत्र दिवस पर गरजेगा लड़ाकू विमान रफाल, जानिए पहली बार क्यों अलग तरह से होगा रिपब्लिक डे का समापन

6 लाख के पार पहुंचा आंकड़ा
स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार शाम 6 बजे एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि 11,660 सत्रों में अब तक 6,31,417 स्वास्थ्य कर्मचारियों का टीकाकरण किया गया है। पॉल ने कहा कि वैक्सीन हिचकिचाहट अब कम हो रही है और लोगों में जागरूकता बढ़ रही है।

राज्यों के दिए निर्देश
केंद्र ने राज्यों से आग्रह किया कि वे प्राथमिकता समूह में कुछ के बीच वैक्सीन संकोच को संबोधित करें, और यह संकेत दिया कि ड्राइव को जल्द ही बड़ी आबादी तक बढ़ाया जाएगा। डॉ वी के पॉल ने जो टीकाकरण प्रशासन पर उच्च-स्तरीय राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह के प्रमुख है ने कहा टीकाकरण अभियान को और तेज किया जाएगा, जो भी वैक्सीन की खुराक उपलब्ध कराएंगे, हम सुनिश्चित करेंगे कि वे अधिकतम लाभार्थियों तक पहुंचें। यह जल्द ही किया जाएगा।

पॉल की मानें तो भारत में वैक्सीन को स्वास्थ्य देखभाल और सीमावर्ती श्रमिकों के लिए प्राथमिकता दी जा रही है। हालांकि बावजूद इसके अगर उनमें से कुछ इसे लेने में संकोच करते हैं, खासकर डॉक्टर और नर्स जो कि निराशाजनक है।

आखिरकार सामने आए दो महीने से ज्यादा वक्त से लापता चीन के दिग्गज कारोबारी, जानिए क्या बोले- जैक मा

हम नहीं जानते कि महामारी क्या मोड़ लेगी, हमें अपनी गैर-कोविड सेवाएं शुरू करनी होंगी। कुछ ही दिनों में भारत ने अपने सभी स्वास्थ्य देखभाल कर्मचारियों का टीकाकरण करने की योजना बनाई है, किसी भी भ्रम की स्थिति में यह ठीक नहीं है, स्वास्थ्य देखभाल श्रमिकों के बीच टीका झिझक समाप्त होनी चाहिए।

आपको बता दें कि देशभर में 16 जनवरी को टीकाकरण अभियान शुरू किया गया था। वर्तमान में वैक्सीन को 3 करोड़ हेल्थ केयर वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स के सर्वोच्च प्राथमिकता वाले समूह में दिया जा रहा है।

Coronavirus in india
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned