NEW REPORT : वायु प्रदूषण में भी इस देश की राजधानी हो गई नंबर वन

हवा में घुलता महीन कण पार्टिकुलेटेड मैटर 2.5 (पीएम 2.5) जानलेवा बनता जा रहा है। इस वजह से दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले 5 शहरों में 1 लाख 60 हजार से अधिक मौतें हुई हैं। देश की राजधानी दिल्ली दुनिया में सबसे प्रदूषित राजधानी है।

नई दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली में 54 हजार से अधिक मौतें हुई हैं, जबकि कोरोना से 10894 मौतें हुई हैं। यह खुलासा ग्रीनपीस साउथ ईस्ट एशिया एनालिस ऑफ आइक्यू एयर डाटा रिपोर्ट 2020 में हुआ है। यह हाल तब है जब लॉकडाउन के दौरान पूरी दुनिया में हवा की गुणवत्ता में सुधार हुआ था।

दुनिया की सबसे प्रदूषित राजधानी
रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली दुनियामें सबसे प्रदूषित राजधानी है। यहां पीएम 2.5 से सबसे अधिक मौतें हुई हैं। इसके बाद जापान की राजधानी टोक्यो है, जहां 40 हजार मौतें हुई हैं। तीसरे स्थान पर शंघाई (चीन), चौथे स्थान पर साओ पाउलो (ब्राजील) और पांचवें स्थान पर मेक्सिको सिटी है।

क्या कहती है रिपोर्ट
- 40,000 मौतें टोक्यो में वायु प्रदूषण से
- 1800 मौतें प्रति दस लाख पर दिल्ली में
- 42 लाख मौतें पूरी दुनिया में 2015 में हुईं

देश के प्रमुख शहरों में मौतें
- 25000 मुंबई में मौतें
- 12000 बेंगलुरू में मौतें
- 11000 चेन्नई में मौतें
- 11000 हैदराबाद में मौतें
- 6700 लखनऊ में मौतें

साधारण मास्क कारगर नहीं
पीएम 2.5 हवा में घुलने वाला सूक्ष्म कण है। इसकी चौड़ाई 2.5 माइक्रोमीटर से कम होती है। एक बाल की चौड़ाई पर 40 कण आ सकते हैं। इन्हें आंखों से नहीं देखा जा सकता है। इसका स्तर बढऩे पर धुंध बढ़ती है, दृश्यता कम हो जाती है। इसके लिए कोयला, डीजल-पेट्रोल व धूल, सॉलिड वेस्ट जलाने व उद्योगों का धुंआ सबसे अधिक जिम्मेदार है। इसे रोकने के लिए साधारण मास्क नहीं, एन 95 मास्क लगाएं।

मरीज व मौतें बढ़ेगी
अस्थमा, हार्ट अटैक व कैंसर का खतरा बढ़ता है। सांस, हार्ट, निमोनिया व आंख के रोगी बहुत जरूरी हो तो ही घर से निकलें। इनके मरीजों व मौतों की संख्या और बढ़ेगी। रिपोर्ट में इनसे होने वाली मौतों का आंकड़ा शामिल नहीं है।
...तो मौतें होतीं दोगुनी
वैज्ञानिकों का कहना है कि लॉकडाउन के कारण उद्योग-धंधे, वाहन आदि करीब 4-5 माह तक बंद थे। इससे हवा की गुणवत्ता सुधरने के कारण प्रदूषण फैलाने वाले तत्वों में बड़ी कमी आने से मौतें कम हुई है। यदि सामान्य स्थिति होती तो मौतें इससे दोगुनी हो सकती थीं।

Ramesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned