जेल में आसाराम के लिए की गई प्रार्थना सभा, मामला सामने आने के बाद मचा हड़कंप

पीड़िता के पिता ने आरोप लगाए हैं कि आसाराम के अनुयायिओं ने मंगलवार को लखनऊ से शाहजहांपुर जेल में आकर कंबल बांटे और आसाराम के लिए एक प्रार्थना सभा का आयोजन किया

नई दिल्ली। दुष्कर्म के मामले में जेल की सजा काट रहे आसाराम के लिए सत्संग का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। मिली जानकारी के मुताबिक इस मामले के लिए जेल अधिकारियों ने जांच के आदेश दिए हैं। दरअसल, दुष्कर्म पीड़िता के पिता ने आरोप लगाया है कि आसाराम के कुछ अनुयायियों (Followers) ने मंगलवार को शाहजहांपुर जेल में आकर कंबल बांटे और उसके लिए एक प्रार्थना सभा भी आयोजित की। इस सभा में आसाराम की तस्वीर भी लगाई गई थी।

इस IPS अफसर ने आसाराम पर लिखी किताब, बाबा के खोले सारे राज़

पापी के लिए प्रार्थना सभा

पीड़िता के पिता ने अपनी शिकायत में कहा है कि जेल में आयोजित इस प्रार्थना सभा के जरिए आसाराम का गुणगान कर रहे हैं। वे एक बालात्कारी को 'महिमामंडित’ कर रहे हैं। उन्होंने इसके खिलाफ जांच की मांग की है।

आसाराम प्रकरण में अपील पर सुनवाई टली, आरोपी प्रकाश व शिवा को बरी करने की अपील के आदेश कोर्ट के पास सुरक्षित

जांच के आदेश

वहीं इस मामले में उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त पुलिस महानिरीक्षक (जेल) शरद कुलश्रेष्ठ ने जांच का आदेश दिया है। कुलश्रेष्ठ ने बरेली जोन के उप महानिरीक्षक को जांच का ज़िम्मा सौंपा है। इसके अलावा शाहजहांपुर के जिलाधिकारी इंद्र ने भी जेल प्रशासन को नोटिस जारी कर जबाव मांगा है।

भाजपा सांसद ने की आसाराम को रिहा करने की मांग, कोरोना का बताया खतरा

2018 में मिली थी सजा

बात दें कि आसाराम साल 2013 से ही जेल में कैद है। इसके साथ ही साल 2018 में शाहजहांपुर की एक लड़की के साथ आश्रम में दुष्कर्म मामले में भी उसे दोषी ठहराया गया था। 25 अप्रैल, 2018 को जोधपुर जेल के अंदर फैसला सुनाया गया, ये अगस्त 2013 का केस था।आसाराम ने अपने जोधपुर आश्रम में एक नाबालिक लड़की के साथ बलात्कार किया था। इसके साथ ही उसने उसके मां-बाप को मारने की धमकी भी दी थी।

Vivhav Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned