कश्मीर में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ में तीन आतंकी ढेर, सर्च ऑपरेशन जारी

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में रविवार सुबह हुए एक मुठभेड़ में तीन आतंकी मारे गए। घटना के बाद सुरक्षा बलों द्वारा सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है।

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में आज सुबह सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुई एक मुठभेड़ में तीन आतंकी मारे गए। मारे गए एक आतंकी की पहचान नहीं हुई है। क्षेत्र में अन्य आतंकियों के छिपे होने की संभावना को देखते हुए सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया है जो अभी भी चल रहा है।

कश्मीर जोन के आईजी विजय कुमार ने बताया कि बांदीपोरा इलाके में हुए एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने अब तक तीन आतंकियों को मार गिराया है। इनमें से एक शकीर अल्ताफ बाबा है। वह वर्ष 2018 में अटारी-बाघा बॉर्डर के जरिए पाकिस्तान गया था। सुरक्षा बलों का सर्च ऑपरेशन अभी भी जारी है।

यह भी पढ़ें : बारिश से तीन राज्यों में बाढ़ का कहर, अब तक करीब 150 लोगों की मौत

पुलिस के एक अधिकारी द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार रविवार सुबह सूचना मिलने पर सुरक्षाबलों ने दक्षिण कश्मीर जिले में मुनंद की घेराबंदी कर सर्च ऑपरेशन शुरू किया। सुरक्षाबलों के तलाशी अभियान के दौरान ही आतंकवादियों ने उन पर गोली चलाना शुरू दिया। इसके जवाब में सुरक्षाबलों ने भी फायरिंग की जिसमें एक अज्ञात आतंकी मारा गया। मारे गए आतंकी की पहचान करने का प्रयास किया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि कल शनिवार को भी राज्य के बांदीपोरा में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच एनकाउंटर हुआ था। इसमें सुरक्षा बलों ने दो आतंकियों को मार गिराने में सफलता प्राप्त की थी और एक जवान घायल हो गया था। बीते आठ दिनों में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में आठ आतंकियों को मार गिराने में सफलता प्राप्त की है।

यह भी पढ़ें : सावन आज से शुरू, कोरोना महामारी के कारण इस बार भी हरिद्वार से जल नहीं ले पाएंगे कांवड़िए

इस वर्ष अब तक मारे गए 86 आतंकी
मोदी सरकार राज्य में आतंक का खात्मा करने के लिए लगातार सक्रिय है। सुरक्षाबल आतंकवादियों के खिलाफ रेग्यूलर ऑपरेशन चला रहे हैं। इस वर्ष सुरक्षा बलों द्वारा की गई कार्यवाही में अब तक 85 से अधिक आतंकवादी मारे जा चुके हैं। आतंकियों के खिलाफ इस तरह लगातार चल रहे अभियान से स्थानीय युवा भी इन संगठनों के साथ नहीं जुड़ना चाहते। वहीं दूसरी ओर भारत सरकार उन्हें रोजगार के नए अवसर उपलब्ध करवा रही है। इस वजह से भी स्थानीय युवा आतंक के साथ जाने के बजाय मुख्य धारा के साथ खुद को जोड़ने का प्रयास कर रहे हैं।

सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned