कर्नाटक Budget 2018: किसानों को मिलीं ये खास सौगातें

कर्नाटक में आगामी चुनाव से पहले आज राज्य का बजट पेश हो रहा है।

बेंगलुरू। कर्नाटक में आगामी चुनाव से पहले आज राज्य का बजट पेश हो रहा है। चूंकि अप्रैल में राज्य में चुनाव होने वाले हैं, इसलिए वर्ष 2018-2019 का ये बजट पूर्णकालिक बजट नहीं होगा। सिद्धारमैया इस बार 13वीं बार बजट पेश करेंगे और लगातार छठवीं वार प्रदेश का बजट पेश करेंगे। बता दें मुख्यमंत्री के पास राज्य का वित्त मंत्रालय भी है इसलिए वो बतौर वित्तमंत्री बजट पेश कर रहे हैं।

किसानों के लिए खास
बजट में आर्थिक स्वतंत्रता के साथ कर्नाटक में 70 लाख सूखे जमीन वाले किसानों को सशक्त बनाने के लिए रायता बेलुको योजना का शुभारंभ किया गया। इसे देश के सबसे बड़े कार्यक्रम के तहत कवर किया जाएगा।
सरकार ने कृषि क्षेत्र के लिए भी 5849 करोड़ रुपये का आवंटन किया है। चामराजनगर में एक नया कृषि महाविद्यालय भी स्थापित किया जाएगा। कर्नाटक रेठा सुरक्षा प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना के तहत 845 करोड़ रुपये आवंटित किया जाएगा। साथ ही जैविक खेती के लिए 50 करोड़ रुपये का निवेश किया गया है।

शिक्षा क्षेत्र को यह मिला
मीडिया रिपोर्टों के अनुसार शिक्षा को 26,846 करोड़ रुपये आवंटित किया गया है। बता दें यह आवंटन पिछले साल की तुलना में 20 प्रतिशत अधिक है। इसके अलावा, बुनियादी ढांचागत विकास जैसे सीसीटीवी कैमरे, हॉस्टल, डिजिटल लाइब्रेरी को उपलब्ध कराया जाएगा।

किसानो का नेता बनाने का सफर महान रहा
बजट पेश करने से पहले उन्होंने अपने बातचीत में कहा कन्नड़ सक्रियतावादी के रूप में, एक मंत्री के रूप में, विपक्ष के नेता और मुख्यमंत्री के रूप में, और किसानों के नेता के रूप में 4 दशकों की यह यात्रा बेहतरीन रही है। उन्होंने बताया कि राज्य का सकल घरेलू उत्पाद 8.5 प्रतिशत है। उन्होंने आगे कहा कि नोट-बंदी के चलते अर्थव्यवस्था पर असर पड़ा है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने कहा 'जीएसटी हालांकि लंबे समय में सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा, लेकिन यह भी उम्मीद है कि अल्प अवधि में राजस्व उत्पादन कम हो जाएगा।'

 

 

Chandra Prakash Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned