एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने निजामुद्दीन मरकज पर उठाए सवाल, पूछा - दिल्ली में किसने दी कार्यक्रम की इजाजत?

  • महाराष्ट्र सरकार ने पहले से प्रस्तावित बड़ी जनसभाओं पर लगाई रोक
  • सोलापुर में आदेश का उल्लंघन करने पर पुलिस ने की बड़ी कार्रवाई
  • नई दिल्ली में सरकार ने निर्णयहीनता का परिचय दिया

नई दिल्ली। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार ( NCP Chief Sharad Pawar ) ने कोरोना संकट ( Corona Crisis ) के दौरान तबलीगी जमात के मरकज ( Tablighi Jamaat Markaj ) पर सवाल उठाया है। उन्होंने पूछा है कि नई दिल्ली में तबलीगी जमात के धार्मिक आयोजन के लिए अनुमति किसने दी? फेसबुक पर लोगों के साथ लाइव संवाद में उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र सरकार ( Maharashtra Government ) ने इससे पहले यहां इस तरह के आयोजन की अनुमति नहीं दी थी।

एनसीपी प्रमुख ने कहा कि महाराष्ट्र में मुंबई और सोलापुर ( Mumbai and Solapur ) में भी दो बड़ी सभा प्रस्तावित थी। प्रदेश सरकार ने मुंबई में प्रस्तावित जनसभा करने की अनुमति नहीं दी। जबकि पुलिस ने राज्य की ओर से जारी परामर्श का उल्लंघन करने के लिए सोलापुर में कार्यक्रम आयोजकों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की।

लॉन्च के पहले 5 दिनों में strandedinindia पोर्टल पर भारत में फंसे 769 विदेशी पर्यटकों ने कराया रजिस्ट्रेशन

अगर महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे और गृह मंत्री अनिल देशमुख सख्त फैसले ले सकते हैं तो दिल्ली में कोरोना संकट के दौरन में इस तरह के कार्यक्रम के लिए अनुमति देने से इनकार क्यों नहीं किया गया। उन्होंने मीडिया में निजामुद्दीन कार्यक्रम को जोर-शोर से उछाले जाने पर भी निराशा जाहिर की है। मीडिया के इस रुख से देश में विशेष समुदाय निशाना बना।

बता दें कि भारत में अब तक कोरोना वायरस ( Coronavirus ) के मरीजों की संख्या 3650 को पार कर चुका है। 109 लोगों की मौत हो चुकी है। देश में कोरोना वायरस से मौत का आंकड़ा 109 है। वहीं इलाज के बाद 291 लोग रिकवर हो चुके हैं।

Coronavirus: ICMR को जल्द मिलेंगी 7 लाख एंटीबॉडी टेस्ट किट

coronavirus Coronavirus Outbreak
Dhirendra Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned