कोविशील्ड की दोनों डोज के बीच समय अंतराल में अभी कोई बदलाव नहीं: डॉ. वीके. पॉल

कोविशील्ड वैक्सीन के दोनों डोज के बीच समय अंतराल को कम करने को लेकर सरकार ने स्पष्ट किया है कि अभी जल्दबाजी में कोई निर्णय नहीं लिया जाएगा।

नई दिल्ली। देश में लगातार कोरोना संक्रमण के दैनिक मामलों में गिरावट देखी जा रही है। वहीं दूसरी तरफ कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए तेजी के साथ टीकाकरण अभियान को भी आगे बढ़ाया जा रहा है। इस बीच देश में वैक्सीन की कमी को लेकर विपक्ष लगातार सरकार पर सवाल खड़े कर रही है। हालांकि, सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि वैक्सीन की कमी नहीं है और 21 जून से सभी राज्यों को फ्री में वैक्सीन उपलब्ध कराया जाएगा।

हाल ही देश में लगाए जा रहे कोविशील्ड वैक्सीन की दोनों डोज के बीच के समय अंतराल को बढ़ाया गया था, जिसको लेकर विपक्ष सरकार पर सवाल खड़े कर रही है। लेकिन सरकार ने अब स्पष्ट किया है कि जल्दबाजी में कदम नहीं उठाया जाएगा। दोनों डोज के बीच के समय अंतराल को कम करने के लिए सरकार अभी कोई फैसला नहीं लेगी।

यह भी पढ़ें:- स्वदेशी टीका लगवाने वाले भारतीय छात्रों को दोबारा वैक्सीन लगवाने को कह रहे विदेशी विश्वविद्यालय

सूत्रों के हवाले से मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि कोविशील्ड खुराक के बीच के अंतराल में तुरंत कोई बदलाव नहीं होने जा रहा है। हालांकि, COVID-19 के लिए वैक्सीन प्रशासन पर राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह (NEGVAC) की आगामी बैठक में निर्णय की समीक्षा के लिए वैज्ञानिक साक्ष्य एकत्र किए गए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि इस तरह के फैसले विशेषज्ञों द्वारा सावधानीपूर्वक जांच के बाद लिए जाएंगे।

बता दें कि बीते समय में हुए अध्ययन का हवाला देते हुए कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में ये कहा गया है कि कोरोना के अलग-अलग वैरिएंट सामने आने के बाद कोविशील्ड की दो डोज के बीच का समय कम कर देना अच्छा रहेगा।
शुक्रवार को नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वीके पॉल ने एक प्रेस वार्ता के दौरान कहा, "यह एक गतिशील प्रक्रिया है। विज्ञान में कोई कट्टर विचारधारा नहीं है। हमारे विशेषज्ञ नवीनतम विकास के माध्यम से आगे बढ़ेंगें और निर्णय लेंगे।"

कोविशील्ड वैक्सीन की दो डोज के बीच 12-16 सप्ताह का अंतर

भारत में कोविशील्ड की दो खुराक के बीच का अंतर बढ़ाकर 12-16 सप्ताह कर दिया गया है। अंतर को बढ़ाने का निर्णय अंतरराष्ट्रीय अध्ययनों पर आधारित था, जिसमें दावा किया गया था कि कोविशील्ड वैक्सीन की पहली खुराक द्वारा दी जाने वाली सुरक्षा अधिक समय तक चलती है और दूसरी खुराक अधिक अंतराल के साथ ली जा सकती है।

यह भी पढ़ें :- कोवैक्सीन के मुकाबले कोविशील्ड लगाने वालों में ज्यादा बन रही हैं एंटीबॉडी, शोध में खुलासा

अभी हाल ही में अमरीकी राष्ट्रपति के शीर्ष चिकित्सा सलाहकार डॉ. एंथनी फौसी ने कहा था कि टीके की खुराक के बीच के अंतराल को बढ़ाने से लोग प्रचलन में COVID-19 प्रकारों में से एक द्वारा संक्रमण की चपेट में आ सकते हैं।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned