पाकिस्तान की नापाक साजिश, सर्दियों में 400 आतंकियों की घुसपैठ कराने की तैयारी

HIGHLIGHTS

  • आतंकवादी नियंत्रण रेखा ( Line of Control ) के पार लॉन्च पैड्स से सर्दियों के मौसम में घुसपैठ करने की कोशिश में लगे हुए हैं।
  • पिछले साल 2020 में इस सीजन में 44 आतंकवादियों के घुसपैठ की खबरें आई थी, जबकि 2019 में 141 और 2018 में 143 आतंकवादियों ने जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ की थी।

श्रीनगर। पाकिस्तान ( Pakistan ) अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। पूरी दुनिया में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने वाले आतंकियों ( Terrorist ) का पालन-पोषण करने वाला पाकिस्तान भारत के खिलाफ फिर से नापाक साजिश रच रहा है। पाकिस्तानी आतंकी संगठन से जुड़े करीब 400 आतंकवादी जम्मू-कश्मीर ( Jammu Kashmir) में घुसपैठ करने की तैयारी में है। आतंकवादी नियंत्रण रेखा ( Line of Control ) के पार लॉन्च पैड्स से सर्दियों के मौसम में घुसपैठ करने की कोशिश में लगे हुए हैं।

पुलिस के एक शीर्ष अधिकारी के मुताबिक, पाकिस्तानी सेना की मदद से आतंकवादी संगठन जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा के साथ-साथ जम्मू और कश्मीर में भी ऐसे समय घुसपैठ की साजिश रच रहा है। उन्होंने बताया है कि पिछले साल 2020 में इस सीजन में 44 आतंकवादियों के घुसपैठ की खबरें आई थी, जबकि 2019 में 141 और 2018 में 143 आतंकवादियों ने जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ की थी।

पाकिस्तान: बलूचिस्तान में मस्जिद के बाहर आतंकी हमला, चार पुलिसकर्मियों की मौत, 11 लोग घायल

अधिकारियों ने जानकारी दी है कि कई प्रमुख मार्गों को बंद किए जाने के साथ भारत की घुसपैठ रोधी ग्रिड की सफलता से क्षुब्ध होकर, पाकिस्तानी सेना ने 2020 में 5,100 संघर्ष विराम उल्लंघन किए। 2003 के बाद से सबसे अधिक संघर्ष विराम लागू हुआ।

PoK में 400 से अधिक आतंकी घुसपैठ को तैयार

एक अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तानी अधिकृत कश्मीर (PoK) में विभिन्न लॉन्चिंग पैड्स में 300 से 415 आतंकवादी हैं, जो घुसपैठ की तैयार हैं। पीर पंजाल (कश्मीर घाटी) के उत्तर की ओर एलओसी के किनारे 175-210 आतंकवादी लॉन्च पैड में हैं। वहीं पीर पंजाल (जम्मू क्षेत्र) के दक्षिण में एलओसी क्षेत्र के विपरीत 119-216 आतंकवादी हैं।

पाकिस्तान: जेल में बंद पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी पर आतंकी हमले की आशंका, बढ़ाई गई सुरक्षा

अधिकारियों ने बताया कि पाकिस्तानी एजेंसियां जम्मू और कश्मीर में सशस्त्र आतंकवादियों, हथियारों, गोला-बारूद और विस्फोटक सामग्री को भेजने के लिए सुरंगों का इस्तेमाल कर रही हैं। अधिकारियों ने बताया कि 2020 में पाकिस्तान के साथ सीमा रेखा के किनारे सात स्थानों पर नशीले पदार्थों के अलावा हथियार और विस्फोटक गिराए गए।

एक अन्य अधिकारी ने कहा कि 20 से अधिक घुसपैठ मार्गों की पहचान की गई है और सशस्त्र आतंकवादियों के प्रवेश को रोकने के लिए सुरक्षा ग्रिड को मजबूत किया गया है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned