'मन की बात' में मिल्खा सिंह, ओलंपिक गेम्स, कोरोना वैक्सीन और जल संरक्षण पर बोले PM मोदी

आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' के जरिए देश की जनता को संबोधित कर रहे हैं।

नई दिल्ली। आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' के जरिए देश की जनता को संबोधित कर रहे हैं। 'मन की बात' के 78वें संबोधन की शुरूआत करते हुए पीएम मोदी ने श्रोताओं और दर्शकों को कुछ प्रश्न पूछते हुए की। उन्होंने ओलंपिक गेम्स से जुड़े कई सवाल पूछते हुए कहा कि साथियों, आप मुझे जवाब भेजें न भेजें, पर MyGov में ओलंपिक पर जो क्विज है, उसमें प्रश्नों के उत्तर देंगे तो कई सारे इनाम जीतेंगे। ऐसे बहुत सारे प्रश्न MyGov के ‘रोड टू टोक्यो क्विज’ में हैं।

मिल्खा सिंह को किया याद
इसके बाद मोदी ने मिल्खा सिंह की मृत्यु पर उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए उनके साथ बिताए गए लम्हों को याद किया। उन्होंने कहा कि मैंने मिल्खा सिंह जी से बात करते हुए उनसे आग्रह किया था कि आपने टोक्यो में 1964 में आयोजित गेम्स के लिए भारत का प्रतिनिधित्व किया था। इसलिए इस बार जब हमारे खिलाड़ी जा रहे हैं तो आप उन्हें भी अपने संदेश से मोटिवेट करें। प्रधानमंत्री ने कहा कि मिल्खा सिंह का पूरा परिवार ही स्पोर्ट्स को समर्पित रहा है।

मोदी ने आगे कहा कि हमारे देश में अधिकांश खिलाड़ी छोटे-छोटे गांवों कस्बों और शहरों से निकल कर आते हैं। जब टेलेंट, डेडिकेशन और खेल की भावना एक साथ मिलते हैं तब कोई एक चैंपियन बनता है। टोक्यो जा रही हमारी टीम में भी ऐसे कई खिलाड़ी हैं जिनकी कहानी दूसरों को मोटिवेट करने वाली है। वहां जा रहे हर खिलाड़ी का अपना संघर्ष रहा है, बरसों की मेहनत रही है।

कोरोना वैक्सीन पर भी बोले पीएम मोदी
प्रधानमंत्री ने कोरोना पर बोलते हुए कहा कि हम लगातार प्रयास करना है कि देश के हर नागरिक तक वैक्सीन पहुंचे। कई जगहों पर कुछ संगठन भी वैक्सीन के प्रति लोगों की झिझक दूर करने के लिए आगे आए हैं। सभी मिलकर अच्छा काम कर रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि मेरी मां सौ वर्ष की है परन्तु उन्होंने भी दोनों डोज लगवा ली हैं। कभी-कभी किसी को कुछ देर घंटों के लिए बुखार वगैरह आता है परन्तु वो बहुत मामूली होता है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि वैक्सीन नहीं लेना बहुत खतरनाक हो सकता है।

जल संरक्षण पर भी बोले पीएम मोदी
नरेन्द्र मोदी ने जल संरक्षण की बात उठाते हुए कहा कि बादल केवल हमारे लिए ही नहीं, हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए भी बरसते हैं। वर्षा का पानी जमीन में जाकर इकट्ठा होता है, जमीन में पानी के लेवल को बढ़ाता है। इसलिए हमें जल संरक्षण को बढ़ावा देना चाहिए।

मन की बात में बोलते हुए उन्होंने उत्तराखंड के पौढ़ी गढ़वाल के सच्चिदानंद भारती का नाम लेते हुए कहा कि उनकी मेहनत से आप पौड़ी गढ़वाल के उफरैंखाल में पानी का संकट समाप्त हो गया है। जहां लोग पानी के लिए तरसते थे, आज वहां वर्ष भर पानी की सप्लाई हो रही है। मोदी ने कहा कि भारती जी अब तक 30 हजार से ज्यादा तालाब बनवा चुके हैं और आज भी उनका अथक कार्य लगातार जारी है।

pm modi PM Narendra Modi
सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned