गुजरात के मंदिरों में साष्टांग प्रणाम पर लगी रोक, केवल नमस्ते करने की अनुमति

Highlights

  • राज्य सरकार की मानक संचालन प्रक्रिया के तहत मंदिर में प्रसाद लाने की इजाजत नहीं है।
  • सोमनाथ मंदिर के प्रबंधक का कहना है कि सरकारी दिशा-निर्देशों का पालन हो रहा।

नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी के बाद से कई नियमों में रीति रिवाजों में बदलावा देखने को मिल रहा है। यहां तक कि भगवान के दर पर आए श्रद्धालुओं को भी अपनी भक्ति व्यक्त करने के तरीकों में बदलाव करने को कहा गया है।

दरअसल गुजरात के मंदिरों में दर्शन के लिए आने वालों श्रद्धालुओं को 'साष्टांग प्रणाम' की अनुमति नहीं है। श्रद्धालु को हाथ जोड़कर केवल 'नमस्ते' करने की इजाजत दी गई है।

जनरल रावत पूर्वी लद्दाख के कई दुर्गम इलाकों में पहुंचे, सैनिकों का हौसला बढ़ाया

अधिकारियों के अनुसार इसके अलावा राज्य सरकार की मानक संचालन प्रक्रिया के तहत मंदिर में चढ़ाने के लिए प्रसाद लाने की भी इजाजत नहीं दी गई है। राज्य में लॉकडाउन लागू होने के 75 दिनों के बाद बीते साल जून माह में मंदिर और अन्य धार्मिक स्थलों को फिर से खोल दिया गया था।

भक्तों को चीजें छूने की इजाजत नहीं

सोमनाथ मंदिर के प्रबंधक का कहना है कि सरकारी दिशा-निर्देशों के अनुसार साष्टांग प्रणाम की अनुमति नहीं होगी। मानक संचालन प्रक्रिया के तहत भक्तों को किसी भी वस्तु को छूने की अनुमति नहीं दी गई है। लोगों को सिर्फ दर्शन के लिए मंदिर के गर्भगृह में जाने की अनुमति होगी। इसके साथ पांच से अधिक भक्तों को बैठकर पूजा करने पर रोक है। यज्ञ में भी तीन से अधिक लोगों की माजूदगी नहीं होगी। सभी को सोशिल डिस्टेंसिग का पालन करने के साथ मास्क लगाना अनिवार्य होगा।

coronavirus corona remedies
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned