नागरिकता कानून पर CJI बोबडे बोले- देश इस वक्त मुश्किल दौर से गुजर रहा, पहला लक्ष्य शांति बहाल करना

चीफ जस्टिस बोबडे ने कहा कि देश में हालात अभी ज्यादा तनावपूर्ण है, ऐसे में इस तरह की याचिकाएं दाखिल करने से कुछ नहीं होगा। हिंसा रुकने के बाद सुनवाई होगी।

नई दिल्ली। नागरिकता कानून (Citizenship act) के खिलाफ देशभर में जारी विरोध प्रदर्शनों का मामला सुप्रीम कोर्ट (supreme court) तक पहुंच चुका है। गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में इस मामले पर सुनवाई हुई। इस दौरान मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे (supreme court cji bobde) ने कहा कि देश इस वक्त मुश्किल दौर से गुजर रहा है। जबतक हिंसा और प्रदर्शन नहीं रुकेगा तबतक इस पर कोई बात नहीं हो सकती है। हमारा मकसद अभी शांति बहाल करना है।

हिंसा रोकने के बाद ही सुनवाई होगी

चीफ जस्टिस बोबडे ने कहा कि देश में हालात अभी ज्यादा तनावपूर्ण है, ऐसे में इस तरह की याचिकाएं दाखिल करने से कुछ नहीं होगा। ऐसे में इस वक्त शांति स्थापित बनाना पहली प्राथमिकता है। इस तरह की याचिकाओं से कोई मदद नहीं मिलेगी।

ये भी पढ़ें: दीपिका पादुकोण 'टुकड़े-टुकड़े गैंग' का हिस्सा : भाजपा सांसद

दरअसल नागरिकता कानून के खिलाफ पुनीत कौर ढांडा ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल करके सुनवाई की मांग की थी। याचिका में 'झूठी अफवाहें' फैलाने वाले कार्यकर्ता, छात्रों, मीडिया हाउसों के खिलाफ कार्रवाई बड़ी का जिक्र किया गया है। नागरिकता कानून को 'संवैधानिक' की मांग की गई है। इस पर सीजेआई ने कहा कि इस तरह की याचिकाएं से कोई लाभ नहीं हो सकता । जब हिंसा रुकेगी हम संवैधानिकता पर सुनवाई करेंगे।

CAA
Show More
Prashant Jha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned