पासपोर्ट सुरक्षा को लेकर बयानबाजी खत्म, सुषमा स्वराज ने कहा मोबाइल से अप्लाई करना पूरी तरह सुरक्षित

सरकार की तरफ से चलाई गई ये सेवा पूरी तरह सुरक्षित है और इसमें संग्रहीत डाटा भी सुरक्षित रहेगा।

नई दिल्ली। पासपोर्ट को लेकर काफी समय से चल रही बयानबाजी पर आखिरकार मोदी सरकार ने जवाब दे ही दिया है। हाल ही में केंद्र सरकार ने मोबाइल से पासपोर्ट आवेदन की सेवा शुरू की थी, जिसकी सुरक्षा के लेकर काफी समय से विवाद चल रहा था। मामले पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज सामने आईं और जारी बहस को खत्म कर दिया।

 

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पासपोर्ट डेटा सुरक्षा को लेकर कहा कि मोबाइल एप से पासपोर्ट अप्लाई करने वालों को चिंता करने की जरुरत नहीं है, क्योंकि ये पूरी तरह से सुरक्षित है। इसमें डेटा लीक को लेकर भी चिंंता करने की कोई बात नहीं है। आगे उन्होंने कहा कि सरकार की तरफ से चलाई गई ये सेवा पूरी तरह सुरक्षित है और इसमें संग्रहीत डाटा भी सुरक्षित रहेगा। इसलिए पासपोर्ट डाटा लीक को लेकर लोगों को चिंता करने की जरुरत नहीं है।

पासपोर्ट वेरिफिकेशन के लिए हज यात्री से सिपाही ने मांगे 15 सौ रुपये

बता दें कि गुरुवार को राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान पासपोर्ट की डेटा लीक के एक सवाल का जवाब देते हुए विदेश मंत्री ने कहा कि मोबाइल से पासपोर्ट आवेदन करने पर डाटा के संरक्षण पर पूरा ध्यान दिया गया है और साथ ही ठोस उपाय भी किए गए हैं।

आवेदन प्रक्रिया पर बात करते हुए विदेश मंत्री ने बताया कि इसमें दो खास फीचर जोड़े गए हैं। जिसके तहत आवेदन करने के बाद मोबाइल फोन में दर्ज डाटा पासपोर्ट सेवा के डाटा केंद्र में चली जाएगी। उसके बाद फोन और एप से डाटा खुद ही डिलीट हो जाएगा। इस तरह से आवेदन के बाद डाटा का दुरुपयोग नहीं हो पाएगा।

वहीं, दूसरे फीचर के तहत साइबर कैफे से ऑनलाइन सेवा के जरिए फर्जी पासपोर्ट अप्लाई करने वालों का आवेदन निरस्त कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि 26 जून को मोबाइल ऐप सेवा शुरू हुई थी। अब तक लगभग 67500 पासपोर्ट आवेदन किए जा चुके हैं और अभी तक कोई शिकायत भी नहीं आई है।

Kiran Rautela Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned