बद्रीनाथ मंदिर परिसर में नमाज पढ़ने पर तनाव, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल

उत्तराखंड स्थित बद्रीनाथ मंदिर परिसर में नमाज अदा करते मुस्लिम युवकों का वीडियो वायरल होने से तनाव, 15 लोगों पर केस दर्ज

नई दिल्ली। उत्तराखंड ( Uttarakhand ) के चमोली जिले में स्थित बद्रीनाथ मंदिर ( Badrinath Temple ) में कुछ मुस्लिम ( Muslim ) लोगों की ओर से कथित तौर से नमाज पढ़े जाने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद तनाव की स्थिति बन गई है।

बताया जा रहा है कि ईद-उल-अजहा के मौके पर प्रसिद्ध बद्रीनाथ मंदिर परिसर में कुछ मुसलमानों ने कथित तौर से नमाज अदा किया। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है।

यह भी पढ़ेंः बिजनेसमैन राज कुंद्रा की गिरफ्तारी पर फैसला आज, पूछताछ में अब तक हुए कई चौंकाने वाले खुलासे

इस खबर के बाद सांप्रदायिक तनाव बढ़ने का खतरा पैदा हो गया है। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल (Video Viral On Social Media) होने के बाद पुलिस मामले की जांच कर रही है। हालांकि पुलिस अधिकारियों ने कहा है कि शुरुआती जांच में ये पता चला है कि इस तरह की कोई घटना नहीं हुई है।

पुलिस ने जानकारी दी है कि सोशल मीडिया पर यह पोस्ट बुधवार से ही नजर आ रहा है। चमोली के पुलिस अधीक्षक यशवंत सिंह चौहान ने इस घटना पर कहा कि 'सोशल मीडिया पर जो वीडियो वायरल हुआ है उसमें नजर आ रहा है कि कई मुसलमान बदरीनाथ मंदिर परिसर में नमाज अदा कर रहे हैं।'

उन्होंने कहा, वायरल पोस्ट पर नजर पड़ते ही स्थानीय पुलिस की एक टीम तुरंत इन आरोपों की जांच में जुट गई। पुलिस ने बताया कि शुरुआती जांच में सामने आया है कि ऐसी कोई घटना नहीं हुई है।

पुलिस अधिकारी के मुताबिक शुरुआती जांच में यह भी सामने आया है कि 15 मुस्लिम श्रमिक हरिंदर सिंह नाम के एक कॉन्ट्रैक्टर के अंदर काम करते हैं।

यह सभी मजदूर मंदिर से करीब 1 किलोमीटर दूर स्थित एक पार्किंग फैसिलिटी प्रोजेक्ट में काम कर रहे थे।
जांच के दौरान ये भी सामने आया है कि सभी मजदूर प्रोजेक्ट साइट पर ही रह रहे थे, क्योंकि वहां निर्माण में इस्तेमाल होने वाली काफी सामग्रियां रखी गई हुई थीं।

साइट पर ही रहने की वजह से बकरीद के दिन सभी ने सुबह वहीं पर नमाज अदा कर ली। उन्होंने किसी भी सार्वजनिक स्थल पर नमाज नहीं पढ़ी। उन लोगों ने सुबह 7 बजे नमाज अदा की।

इसके साथ ही ये भी साफ हुआ है कि उस दौरान किसी मौलाना को बाहर से नमाज अदा करने के लिए नहीं बुलाया गया था।

यह भी पढ़ेंः Jammu Kashmir: सेना को बड़ी कामयाबी, एनकाउंटर में लश्कर के दो आतंकी ढेर, अखनूर में मार गिराया

इन मामलों में दर्ज हुआ केस
पुलिस की मानें तो कॉन्ट्रैक्टर और मजदूरों के खिलाफ भीड़ जुटाने और सोशल डिस्टेन्सिंग का उल्लंघन करने के आरोप में आपदा प्रबंधन एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस के मुताबिक स्थानीय नगरपालिका के पूर्व अध्यक्ष ऋषि प्रकाश सति और उनके सहयोगियों की शिकायत के आधार पर केस दर्ज किया गया है।

पुलिस अधीक्षक की अपीलः अफवाह न फैलाएं
पुलिस फिलहाल मंदिर परिसर में नमाज अदा किए जाने के आरोपों की जांच कर रही है। पुलिस की मानें तो जांच के आधार पर ही इस मामले में कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

पुलिस अधीक्षक ने कहा कि 'तब तक मैं लोगों से अपील करता हूं कि वो किसी तरह की अफवाह ना फैलाएं।'

धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned