गुरुग्राम में कोरोना का टीका लगने के 130 घंटे बाद महिला हेल्थ वर्कर की मौत, परिजनों ने वैक्सीन को बताया वजह

  • देश में कोरोना वायरस को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए वैक्सीनेशन की शुरुआत हो चुकी है
  • गुरुग्राम में कोरोना वैक्सीन लगने के लगभग 130 घंटे बाद स्वास्थ्य कर्मी की मौत हो गई

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस ( Coronavirus in india ) को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए लंबे समय से प्रतीक्षित वैक्सीनेशन ( Corona Vaccination ) की शुरुआत हो चुकी है। इस बीच गुरुग्राम से बड़ी खबर सामने आई है। यहां कोरोना वैक्सीन ( Corona Vaccine ) लगने के लगभग 130 घंटे बाद एक महिला स्वास्थ्य कर्मी की मौत हो गई। मृतका के परिजनों ने मौत की वजह वैक्सीन लगाना बताया और न्यू कॉलोनी पुलिस स्टेशन में वैक्सीनेशन को लेकर एक शिकायत दी है। हालांकि अभी तक इस बात की पुष्टि नहीं हो पाई है कि महिला हेल्थ वर्कर ( Women Helth Worker ) की पुष्टि वैक्सीन लगने से हुई है या किसी और वजह से है। पुलिस फिलहाल मामले की जांच कर रही है। इस मामले में गुरुग्राम के मुख्य चिकित्साधिकारी ( CMO ) ने कहा है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इसकी कोई पुष्टि नहीं हुई है।

दुनिया में कोविड-19 के मामलों की संख्या 9.68 करोड़ पहुंची, जानिए भारत में कुल मरीजों की संख्या

सोलह जनवरी को कोरोना की वैक्सीन लगी थी

जानकारी के अनुसार गुरुग्राम स्थित कृष्ण कालोनी निवासी 55 वर्षीय राजवंती भंगरौला के पीएचसी सेंटर में सुपरवाइजर पद पर तैनात थी। मृतका के परिजनों ने बताया कि राजंवती को कोरोना वैक्सीनेशन अभियान के शुरुआत के दिन यानी सोलह जनवरी को कोरोना की वैक्सीन लगी थी। जिसके बाद में उसकी तबीयत खराब रहने लगी और 130 घंटे बाद उसकी मौत हो गई। हेल्थ वर्कर की मौत के बाद परिजनों में काफी रोष है। वहीं, मृतका के बेटे ने उसकी मौत के लिए कोरोना वैक्सीन को जिम्मेदार ठहराया है। मृतका के परिजनों ने संबंधित थाने में कोरोना वैक्सीनेशन के खिलाफ शिकायत भी दी है, जिसमें उन्होंने टीकाकरण अभियान में तुरंत रोक की मांग की है।

पुणे: सीरम इंस्टीट्यूट प्लांट में लगी आग से 5 की मौत, जानिए कितनी सुरक्षित है कोरोना वैक्सीन?

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कोरोना वैक्सीन से मौत की कोई पुष्टि नहीं

गुरुग्राम के मुख्य चिकित्साधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि इस मामले में गंभीरता से जांच की जा रही है। मृतका की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी कोरोना वैक्सीन से मौत की कोई पुष्टि नहीं हुई है। आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 16 जनवरी के दुनिया के सबसे बड़े कोरोना वैक्सीनेशन की शुरुआत की थी, जिसके तहत रोजाना लाखों लोगों को टीका लगाया जा रहा है। हालांकि शुरुआती चरण में कोरोना वैक्सीन के लिए हेल्थ वर्कर्स और फ्रंट लाइन वर्कर्स का चयन किया गया है, जिसके बाद वैैक्सीनेशन अभियान का विस्तार किया जाएगा और देश के प्रत्येक नागरिक को टीका लगाया जाएगा। वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से वैक्सीन को लेकर किसी भी तरह की अफवाह और भ्रम में न आने की बात कही है। उन्होंने कहा कि कुछ विपक्षी दल कोरोना वैक्सीनेशन को राजनीतिक मुद्दा बनाने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित और असरदार है।

Coronavirus in india Coronavirus In India in Hindi
Show More
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned