पाकिस्तान: 27 फीसदी इलाके में लोग अंधेरे में रहने को मजबूर, आजादी के 7 दशक बाद भी यहां नहीं पहुंची बिजली

  • पाकिस्तान के 27 फीसदी इलाके में आज भी बिजली नहीं है
  • पाकिस्तान में अभी बिजली की मांग नौ हजार मेगावाट है

इस्लामाबाद। आर्थिक बदहाली के दौर से गुजर रहे पड़ोसी देश पाकिस्तान में आजादी के 70 साल बाद भी कई ऐसे गांव हैं जहां पर आज भी बिजली नहीं पहुंच पाई है। पाकिस्तान की एक संसदीय समिति को बताया गया कि देश के 27 फीसदी इलाके आज भी बिजली से महरूम हैं।

ऊर्जा पर सीनेट की कमेटी को नेशनल इलेक्ट्रिक पॉवर रेगुलेटरी अथॉरिटी (नेपरा) के चेयरमैन तौसीफ एच फारूकी ने जानकारी दी है। संसद में चर्चा के दौरान सीनेटर नोमान वजीर ने कहा कि देश में अभी बिजली की मांग नौ हजार मेगावाट है जबकि 33 हजार मेगावाट क्षमता के बिजली संयंत्र लगाए जा रहे हैं।

मौलाना फजलुर रहमान ने फिर इमरान खान को दी चेतावनी, कहा- सरकार का आखिरी महीना है दिसंबर

उन्होंने जब इसकी जरूरत पर सवाल उठाया, तो नेपरा के चेयरमैन ने इस सवाल को गलत बताते हुए कहा कि अभी देश के 27 फीसदी इलाके ऐसे हैं जहां बिजली नहीं पहुंची है।

नोमान वजीर ने कहा कि समस्या विद्युत उत्पादन की नहीं बल्कि इसके ट्रांसमिशन और वितरण की है। नेपरा के चयरमैन ने जवाब में कहा कि देश में ट्रांसमिशन की क्षमता को पूर्व की तुलना में सौ गुना बढ़ाया जा चुका है।

नेपरा चेयरमैन ने यह भी बताया कि महंगे ईंधन से पैदा होने वाली एक यूनिट बिजली पर लागत 24 पाकिस्तानी रुपये आ रही है जबकि वैकल्पिक ऊर्जा के मामले में यह छह रुपया प्रति यूनिट पड़ रही है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned