चीन ने अमरीका को दी धमकी, कहा- चीनी कंपनियों को न्यूयॉर्क एक्सचेंज से हटाया तो कार्रवाई करेंगे

HIGHLIGHTS

  • NYSE ने चीन की तीन बड़ी दूरसंचार कंपनियों ( Chinese Company ) को एक्सचेंज से हटाने की घोषणा की है।
  • चाइना टेलीकॉम कॉर्प लिमटेड, चाइना मोबाइल लिमटेड और चाइना यूनिकॉम हांगकांग लिमटेड को सात जनवरी से 11 जनवरी के बीच किसी समय बंद किया जाएगा।

बीजिंग। अमरीका और चीन के बीच टकराव ( America China Tension ) की स्थिति बढ़ती जा रही है। अब चीन ने अमरीका को धमकी दी है। बीजिंग ने कहा है कि यदि अमरीका ने न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज ( NYSE ) से चीनी कंपनियों को हटाया तो हम सख्त कार्रवाई करेंगे।

NYSE द्वारा चीन की तीन बड़ी दूरसंचार कंपनियों ( Chinese Company ) को एक्सचेंज से हटाने की घोषणा के बाद चीन ने यह चेतावनी दी है। चीन के इस धमकी के बाद दोनों देशों में पहले से जारी तनाव बढ़ सकता है।

अमरीका ने 14 वरिष्ठ चीनी अधिकारियों पर लगाया प्रतिबंध, हांगकांग मामले पर दोनों देशों में फिर बढ़ा तनाव

NYSE ने एक बयान में कहा कि चाइना टेलीकॉम कॉर्प लिमटेड, चाइना मोबाइल लिमटेड और चाइना यूनिकॉम हांगकांग लिमटेड को एक्सचेंज से हटाया जाएगा। इन तीनों कंपनियों के शेयरों में कारोबार सात जनवरी से 11 जनवरी के बीच किसी समय बंद किया जाएगा।

बता दें कि अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ( US President Donald Trump ) ने पिछले साल 12 नवंबर को सरकारी आदेश जारी किया था, जिसमें ये कहा गया था कि सार्वजनिक रूप से कारोबार वाली उन कंपनियों में निवेश को प्रतिबंधित कर दिया था, जिनके बारे में अमरीका का दावा है कि उनका स्वामित्व या नियंत्रण चीन की सेना के पास है। इस मामले में चीन के वाणिज्य विभाग के एक प्रवक्ता ने कहा कि इससे अमरीकी पूंजी बाजार के प्रति सभी पक्षों का भरोसा कमजोर होगा।

बिडेन से चीन को उम्मीद

आपको बता दें कि अमरीका और चीन में बढ़ते तनाव के बीच बीजिंग को नवनिर्वाचित अमरीकी राष्ट्रपति जो बिडेन से काफी उम्मीदें हैं। ट्रंप के कार्यकाल में अमरीका और चीन के बीच तनाव काफी बढ़ गया था, लेकिन अब बिडेन से चीन को उम्मीद है कि दोनों देशों के बीच रिश्ते सामान्य होंगे। चीन का मानना है कि दोनों देशों के बीच शुरू हुए शीत युद्ध को जो बिडेन समाप्त करेंगे।

चीन की सरकारी समाचार एजेंसी को दिए एक साक्षात्कार में चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने उम्मीद व्यक्त की है कि बीजिंग और वाशिंगटन के बीच रिश्ते सामान्य होंगे। बता दें कि साउथ चाइना सी, ताइवान, हांगकांग, उइगर मुस्लमानों और कोरोनावायरस जैसे कुछ मुद्दे को लेकर ट्रंप के कार्यकाल में अमरीका और चीन के बीच तनाव काफी बढ़ गया है।

US Presidential Election: जो बिडेन ने रूस को बताया अमरीका के लिए खतरा, कहा-चीन हमारा प्रतिद्वंदी

इससे पहले अमरीका ने हांगकांग मामले पर एक कड़ी कार्रवाई करते हुए 14 वरिष्ठ चीनी अधिकारियों पर प्रतिबंध ( US Banned Chinese Officials ) लगा दिया था। इससे पहले चीन ने भी अमरीकी अधिकारियों पर प्रतिबंध लगाया था।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned