अमरीकी इतिहास में सीआईए की पहली महिला निदेशक बनीं जिना हास्पेल

अमरीकी इतिहास में सीआईए की पहली महिला निदेशक बनीं जिना हास्पेल

दुनिया की इस टॉप खुफिया एजेंसी में वह बतौर सीक्रेट एजेंट काम करती रही हैं।

नई दिल्‍ली। अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने विवादित अधिकारी जिना हास्पेल को सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी (सीआईए) का नया निदेशक नियुक्‍त कर दिया है। इसी के साथ वह अमरीकी इतिहास में सीआईए की निदेशक बनने वाली पहली महिला हो गई हैं। अभी तक वह दुनिया की इस टॉप खुफिया एजेंसी में बतौर सीक्रेट एजेंट काम करती रही हैं। वह अपने कामकाज के तरीकों के लेकर समय समय विवादों में भी रही हैं।

अमरीका के बाद अब इस देश ने यरुशलम में खोला दूतावास, फिलिस्तीनी नागरिकों में बढ़ा विरोध

ट्रंप ने दी जिना को बधाई

बतौर सीआईए के रूप में उनकी नियुक्ति की जानकारी खुद अमरीकी राष्‍ट्रपति ट्रंप ने ट्वीट कर दी है। उन्‍होंने हास्‍पेल को सीआईए का नया निदेशक बनने पर बधाई भी है। ट्रंप ने अपने ट्वीट में सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी के प्रमुख के तौर पर जीना हास्पेल की नियुक्ति की घोषणा भी की।

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने खोया आपा, अवैध प्रवासियों को कहा 'जानवर'

कौन हैं जिना हास्पेल?

जिना हास्पेल सीआईए की निदेशक बनने वाली पहली महिला हैं। वह अमरीकी राष्‍ट्रपति ट्रंप की पसंद हैं। अमरीकी सिनेट ने भी उनकी नियुक्ति पर मुहर लगा दी है। इससे पहले वह सीआईए की उप-प्रमुख थीं। अपने कार्यकाल में वो अधिकतर समय एक सीक्रेट एजेंट की भूमिका में ही रहीं। हास्पेल को आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए जॉर्ज डब्ल्यू बुश सम्मान भी दिया जा चुका है। आपको बता दें कि सार्वजनिक मंच पर अपने करियर में वह काफी विवादित भी रहीं हैं। सीआईए में तैनाती के दौरान जिना हास्पेल के संभावित आतंकवादियों को प्रताड़ित करने के तरीकों को लेकर उनकी आलोचना होती रही है। वह 26/11 हमलों के संभावित आतंकवादियों से पूछताछ में क्रूरतम तकनीकों को अपनाने की वजह से हमेशा मानवधिकार संगठनों के निशाने पर रही हैं। जानकारों का मानना है कि वर्ड ट्रेड सेंटर पर हुए हमले के बाद से अमरीकी सुरक्षा एजेंसी ने काफी कड़ाई दिखाई है। इस हमले की जांच के दौरान कई निर्दोष लोगों को जान गंवानी पड़ी तो कइयों को गंभीर यातनाएं झेलनी पड़ी हैं।

Ad Block is Banned