scriptMelting winter will increase due to falling mercury | पारा गिरने से बढ़ेगी गलन भरी सर्दी, प्रदूषण ने फिर पकड़ा जोर, जानें अपने शहर का हाल | Patrika News

पारा गिरने से बढ़ेगी गलन भरी सर्दी, प्रदूषण ने फिर पकड़ा जोर, जानें अपने शहर का हाल

locationमुरादाबादPublished: Dec 12, 2023 11:11:16 am

Submitted by:

Mohd Danish

Moradabad News: मौसम विभाग ने कहा है कि आने वाले दो दिनों में पारा और तेजी से नीचे गिरेगा। जिससे गलन भरी सर्दी बढ़ेगी। वहीं प्रदूषण भी फिर जोर पकड़ रहा है।

Melting winter will increase due to falling mercury
UP Weather AQI: यूपी में अब गलन भरी सर्दी जोर मारने वाली है। रात का तापमान तेजी से गिरेगा। साथ ही 14 दिसंबर से घना कोहरा छाए रहने के आसार हैं। यानि कड़ाके की सर्दी शुरू हो जाएगी। मौसम विभाग के अनुसार मंगलवार से ही तापमान में गिरावट शुरू हो जाएगी। फिलहाल दो दिन आसमान साफ रहेगा। इसके बाद बादल छाए रहेंगे। जबकि गुरुवार से निचले तापमान में बड़ी गिरावट दर्ज की जा सकती है। न्यूनतम तापमान 7 डिग्री के आसपास रह सकता है। इसी के साथ घने कोहरे की शुरुआत हो सकती है। दोपहर में तेज धूप खिलने और रात के पारे में गिरावट के बाद ऐसा होगा।
गिरा दिन का पारा
अधिकतम तापमान में एक डिग्री की गिरावट दर्ज की गई है। इसे 24.3 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। जबकि न्यूनतम तापमान अभी सामान्य से दो डिग्री अधिक होकर 10.5 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। आर्द्रता का अधिकतम प्रतिशत 89 रहा। मौसम विभाग का अनुमान है कि आसमान में धुंध छाई रहेगी। तापमान अभी और गिरेगा।
यह भी पढ़ें

अमरोहा में आयोजित हुआ सामूहिक विवाह कार्यक्रम, अधिकारियों ने 1193 जोड़ों को दिया आशीर्वाद

बढ़ रहा प्रदूषण
यूपी के कई शहरों में बारिश के बाद प्रदूषण में कमी आई थी। हालांकि ये केवल एक से दो दिन ही रहा। दोबारा प्रदूषण तेजी से बढ़ने लगा है। आगरा, गाजियाबाद, ग्रेटर नोएडा, लखनऊ, मेरठ, मुजफ्फरनगर और नोएडा में हवा की स्थिति फिर बहुत खराब हो गई है। इन सभी शहरों में एक्यूआई 300 के पार दर्ज किया गया है। अन्य शहरों में भी पिछले तीन दिनों के मुकाबले मंगलवार को प्रदूषण और एक्यूआई बढ़ा है। कई शहरों में एक्यूआई 100 के कम है लेकिन अब भी इन शहरों की हवा में जहरीली गैसें हैं।
सांस के रोगियों को परेशानी
सांस संबंधी और टीबी के पुराने मरीजों की दिक्कतें भी लगातार बढ़ रही हैं। हर रोज औसतन पांच से छह मरीजों को अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती करना पड़ रहा है। डॉक्टरों ने लोगों को घरों से अनावश्यक रूप से बाहर नहीं निकलने की सलाह दी है।

ट्रेंडिंग वीडियो