script हादसे का सफर: शहर से ही दौड़ रहीं ओवरलोड बसें, नहीं हो रही कार्रवाई | Journey of accident: Overloaded buses are running through the city its | Patrika News

हादसे का सफर: शहर से ही दौड़ रहीं ओवरलोड बसें, नहीं हो रही कार्रवाई

locationमोरेनाPublished: Dec 09, 2023 01:15:50 pm

Submitted by:

Ashok Sharma

- परिवहन चेक पोस्ट पर भी नहीं रोका जाता ओवरलोडिंग बसों को, शहर से ही सवारी बैठाई जा रही हैं बसों की छतों पर

हादसे का सफर: शहर से ही दौड़ रहीं ओवरलोड बसें, नहीं हो रही कार्रवाई
हादसे का सफर: शहर से ही दौड़ रहीं ओवरलोड बसें, नहीं हो रही कार्रवाई
मुरैना. हाइवे सहित शहर से निकलने वाले अन्य मार्गों पर बसों में बेरोक- टोक ओवरलोडिंग के चलते हर समय हादसे की आशंका बनी हुई है। अभी तक शहर की सीमा से निकलकर बसों की छतों पर सवारियां बैठाई जाती थीं लेकिन अब बस संचालक इतने निरंकुश हो गए हैं कि शहर में स्टैंड से ही सवारियां ऊपर बैठाकर बस निकाल रहे हैं लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। अगर समय रहते विभाग नही चेता तो बड़ा हादसा हो सकता है।
परिहवन विभाग, पुलिस व यातायात विभाग द्वारा समय समय पर अभियान चलाकर ओवरलोड बस सहित अन्य वाहनों के खिलाफ कार्रवाई करने का दावा किया जाता है लेकिन उसके बाद भी ओवरलोडिंग नहीं थम रही है। शहर के बैरियर बस स्टैंड से देवगढ़- चिन्नौंनी मार्ग, धौलपुर हाइवे सहित अन्य मार्गों के लिए बस निकलती हैं, उन बसों की छतों पर अंदर से ज्यादा सवारी बैठकर जाती हैं, उसके बाद भी स्टाफ पूरी रास्ता जगह जगह सवारियां भरते हुए जाते हैं। खास बात है कि हाइवे पर परिवहन विभाग का चेकपोस्ट स्थापित है। यहां रात दिन तमाम वाहनों को रोका जाता है लेकिन ओवरलोड बसें नाके से आसानी से निकल रही हैं। इस नाके पर कार्रवाई करना तो दूर ओवरलोड बसों को रोका भी नहीं जा रहा।
इन मार्गों पर भी चलते हैं ओवरलोडिंग वाहन
जौरा रोड पर बसों के अलावा डग्गामार वाहन, मुरैना- धौलपुर, मुरैना से अंबाह- पोरसा, सिहोनियां, फाटक बाहर से ग्रामीण अंचल के लिए जाने वाले वाहन, अंबाह व पोरसा कस्बे से ग्रामीण अंचल को चलने वाले वाहनों में भी ओवरलोड सवारियां भरी जा रही हैं, लेकिन पुलिस कोई कार्रवाई नहीं करती।
कहां कितनी यात्री बसें
जिले के लोकल स्तर पर रूटों को देखें तो मुरैना से जौरा- सबलगढ़ मार्ग पर करीब 130 बस, अंबाह- पोरसा मार्ग पर 90, ग्वालियर रूट पर 100 और धौलपुर मार्ग पर 25 के करीब बसों का संचालन बैरियर बस स्टैंड से होता है। इनमें से धौलपुर रूट पर बमुश्किल दस बसों का परमिट है, अन्य पर परमिट नहीं हैं।
फैक्ट फाइल
- 450 से अधिक यात्री बसों का होता है जिले भर से।
- 2000 से ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं जिले भर की यात्री बसों पर।
- 6000 के करीब यात्री जिला, प्रदेश और देश में यात्रा करते हैं मुरैना से।
- 10 हजार से ज्यादा लोग जुड़े हैं बस व्यवसाय में शामिल लोगों से।
- 20 जिले के लिए सीधी बस सेवा उपलब्ध है मुरैना से।
कथन
- वाहनों में ओवरलोड सवारियां भरना और चेकपोस्ट पर इन वाहनों को नहीं रोका गया, यह गलत है। ओवरलोड वाहनों के खिलाफ जल्द सख्त कार्रवाई की जाएगी।
अर्चना परिहार, जिला परिवहन अधिकारी
ऐसे रुक सकती है ओवरलोडिंग
प्राइवेट बसों में ओवरलोडिंग रोकने के लिए परिवहन व पुलिस विभाग को सख्ती दिखानी होगी। इसके लिए हाइवे पर स्थित परिवहन चेक पोस्ट, सरायछौला थाना, सिविल लाइन, नूराबाद, बानमोर एवं सिकरवारी मार्ग नहर पर देवगढ़ थाना, चिन्नौंनी थाना सहित अन्य थाना पुलिस को कार्रवाई करना होगी।

ट्रेंडिंग वीडियो