maha politics: संकट के समय इसी घर में रहते थे बाबासाहब, उद्धव ने लिए यह फैसला

संकट के समय बाबासाहेब ( Babasaheb Ambedkar ) जिस घर में थे उसे राष्ट्रीय स्मारक ( National Smarak ) बनाएगी सरकार, महापरिनिर्वाण दिवस के पर राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ( CM Uddhav Thakre ) ठाकरे ने की घोषणा, दादर स्थित चैत्यभूमि ( Chaitybhumi ) जाकर बाबासाहेब आंबेडकर को आदरांजलि अर्पित

मुंबई।Patrika .com/mumbai-news/maha-politics-shivsena-is-searching-support-5295843/" target="_blank"> महामानव बाबासाहेब आंबेडकर अपने संकट के क्षण में परेल स्थिति जिस घर में रहे थे , राज्य सरकार उसे अब राष्ट्रीय स्मारक के रूप में विकसित करेगी। शुक्रवार को महापरिनिर्वाण दिवस के अवसर पर राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने यह घोषणा की। दादर स्थित चैत्यभूमि जाकर बाबासाहेब आंबेडकर को आदरांजलि अर्पित करने के बाद उद्धव ने कहा कि देश में संविधान के रचइता बाबासाहेब के परेल स्थिति बीआईटी चल में जो घर है , जहां वे 22 वर्षों तक अपने परिवार के साथ रहे हैं। सरकार उसे राष्ट्रीय स्मारक बनाएगी।

बाबासाहेब के अनुयायी को बारिश और तूफान से बचाएगी बीएमसी

ठाकरे ने कहा कि वर्ष 1913 से 1935 तक बाबासाहेब आंबेडकर परेल के बीआईटी चल के एक नंबर ईमारत में 51 और 52 नंबर के खोली में रहते थे। मौजूदा समय में इसमें कुछ लोग रहते है। जिन्हे दूसरी जगह शिफ्ट किया जायेगा और इन दोनों खोलियों को खाली करा कर इसे स्मारक में विकसित करेगी। बाबासाहेब आंबेडकर के पुण्यतिथि पर ठाकरे सरकार ने उनके अनुयायियों को बड़ा तोहफा दिया है। ठाकरे ने इस मौके पर इंदु मिल में बाबासाहेब के स्मारक को लेकर भी सकारात्मक प्रतिसाद देते हुए कहा जल्द ही उसके निर्माण पर भी सरकार कदम उठाएगी।

Patrika
Show More
Ramdinesh Yadav Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned