scriptMaharashtra Crisis: Why Thackeray wants to keep Sena away from BJP | Maharashtra Political Crisis: शिवसेना को बीजेपी से दूर क्यों रखना चाहते हैं उद्धव ठाकरे? समझिए पूरा समीकरण | Patrika News

Maharashtra Political Crisis: शिवसेना को बीजेपी से दूर क्यों रखना चाहते हैं उद्धव ठाकरे? समझिए पूरा समीकरण

महाराष्ट्र का सियासी संग्राम फिलहाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। शिवसेना के बागी विधायकों के नेता एकनाथ शिंदे मोर्चा संभाले हुए हैं। इस बीच, महाराष्ट्र की राजनीति में बीजेपी ने भी एंट्री कर ली है। केंद्र सरकार ने शिवसेना के बागी विधायकों को वाई प्लस कैटेगरी की सुरक्षा दी है।

मुंबई

Updated: June 26, 2022 05:03:50 pm

महाराष्ट्र में सियासी संकट और भी गहराता जा रहा है। शिवसेना के नेता एकनाथ शिंदे की वजह से पार्टी में बिखर रही है तो वहीं महाविकास अघाड़ी सरकार की भी मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही है। दावा किया जा रहा है कि फिलहाल शिंदे गुट के पास शिवसेना के 37 से अधिक विधायकों का समर्थन हैं। यानी पार्टी के दो तिहाई विधायक शिंदे गुट के पास हैं तो ऐसे में वे पार्टी पर भी अपना दावा ठोंक सकते हैं।
uddhav_thackeray.jpg
Uddhav Thackeray
इस पूरे मामले पर सियासी बयानबाजी भी लगातार जारी है। शिवसेना ने बागी विधायकों से सख्ती से निपटने का संदेश दिया है तो दूसरी तरफ उन्हें मनाने की कोशिश भी जारी है। इस सियासी लड़ाई में अब उद्धव की पत्नी रश्मि ठाकरे की एंट्री हो गई है। खबर है कि रश्मि ठाकरे ने बागी विधायकों की पत्नियों से फोन कर बात की है। हालांकि इसे लेकर कोई औपचारिक बयान सामने नहीं आया है।
यह भी पढ़ें

Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे गुट के लिए शिवसेना पर दावा पेश करना आसान नहीं! यहां जानें EC का नियम

बीजेपी से दूरी रखना चाहती है शिवसेना

शिवसेना ने 2019 के विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी से दूरी बना ली है। पिछले दो विधानसभा चुनावों में शिवसेना से बीजेपी सीटों की संख्या और वोट शेयर दोनों के मामले में काफी आगे निकल चुकी है। करीब 1990 से 2004 तक शिवसेना विधानसभा चुनाव में बीजेपी से हमेशा आगे रही है। साल 2009 में पूरी कहानी बदल गई, पहली बार बीजेपी ने शिवसेना से दो सीटें अधिक जीती। इसके बाद 2014 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने 122 सीटों पर जीत दर्ज की, जो शिवसेना की 63 सीटों से लगभग दोगुनी थीं।
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, साल 2019 में दोनों पार्टियों के बीच सीटों की संख्या का अंतर थोड़ा कम हुआ। विधानसभा चुनावों में बीजेपी का वोटिंग परसेंटेज 1990 में 10.71% से बढ़कर 2019 में 25.75% हो गया। इसी दौरान, शिवसेना का वोट शेयर 15.94% से बढ़कर 16.41% हो गया।
साल 2004 में शिवसेना ने सबसे अच्छा प्रदर्शन किया था। 2004 में शिवसेना को 19.97% वोट मिले थे। 2014 के विधानसभा चुनावों में, बीजेपी ने 2009 के विधानसभा चुनावों की तुलना में लगभग 13.5% वोटों की वृद्धि दर्ज की और शिवसेना से आगे निकल गई। वहीं, लोकसभा चुनाव में भी बीजेपी सीट शेयर के मामले में शिवसेना से आगे निकल गई है। पिछले दो लोकसभा चुनावों में, बीजेपी ने शिवसेना की 18 की तुलना में 23 सीटें जीती हैं।
इन आंकड़ों से साफ पता चलता है कि बीजेपी ने पिछले कुछ सालों में महाराष्ट्र में अच्छा प्रदर्शन किया है। शिवसेना के लिए ये चिंता का विषय है। हिंदुत्व की विचारधारा के मूल में, शिवसेना बीजेपी के साथ एक ही विचारधारा को साझा करती है। यही वजह है कि शिवसेना को अपने मौजूदा सहयोगियों - एनसीपी और कांग्रेस की तुलना में बीजेपी से अधिक चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

BJP के नए संसदीय बोर्ड और चुनाव समिति का गठन, गडकरी व शिवराज की छुट्टी, देखिए कौन-कौन नेता शामिलकिडनैंपिग के आरोपी हैं बिहार के कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह, सरेंडर वाले दिन ही ली शपथ, नीतीश बोले-मुझे जानकारी नहींदिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने लॉन्च किया ‘मेक इंडिया नंबर-1’ कैंपेन, पूछा - आजादी के 75 वर्ष बाद भी हम बाकी देशों से पीछे क्यों?सुप्रीम कोर्ट ने 'रेवड़ी कल्चर' के खिलाफ सभी पक्षों से मांगे सुझाव, 22 अगस्त तक दिया वक्तशिवमोगा तनाव पर कर्नाटक BJP नेता केएस ईश्वरप्पा का विवादित बयान- मुस्लिम यहां शांति से रहे या पाकिस्तान चले जाएंMumbai News: मुंबई में डेंगू, मलेरिया और Swine Flu का तांडव जारी, 7 महीने के भीतर स्वाइन फ्लू से 43 लोगों की मौतICC ने जारी किया '2023-27 FTP' का पूरा कार्यक्रम, देखिए टीम इंडिया का पूरा शेड्यूलकेरल कोर्टः यौन उत्पीड़न की शिकायत पहली नजर में नहीं टिकेगी, जब महिला ने 'यौन उत्तेजक' पोशाक पहनी हो
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.