script लोकसभा चुनाव: कांग्रेस 14, उद्धव गुट 15 और 8 सीटों पर फंसा पेंच! महाराष्ट्र में महाविकास आघाडी का सीट बंटवारा तय | Maharashtra MVA Congress Shiv Sena UBT NCP seat sharing final for Lok Sabha 2024 | Patrika News

लोकसभा चुनाव: कांग्रेस 14, उद्धव गुट 15 और 8 सीटों पर फंसा पेंच! महाराष्ट्र में महाविकास आघाडी का सीट बंटवारा तय

locationमुंबईPublished: Feb 01, 2024 11:44:02 am

Submitted by:

Dinesh Dubey

MVA Seat Sharing: महाराष्ट्र में लोकसभा सीटों के बंटवारे को लेकर एमवीए की अगली बैठक 2 फरवरी को होगी।

mva_meeting.jpg
महाविकास आघाडी गठबंधन
Maharashtra Politics: महाराष्ट्र में महाविकास अघाडी गठबंधन का सीट शेयरिंग का फ़ॉर्मूला लगभग बन गया है। खबर है की राज्य की 48 में से 40 लोकसभा सीटों पर अंतिम फैसला हो चुका है। इन 40 सीटों में किस दल के उम्मीदवार को उतारा जाएगा। ये लगभग तय हो गया है। लेकिन अभी भी 8 लोकसभा सीटों पर पेंच फंसा हुआ है। कहा जा रहा है कि इन 8 सीटों पर उद्धव ठाकरे की शिवसेना और कांग्रेस दोनों दावा कर रहीं हैं और बातचीत जारी है।
रिपोर्ट्स के मुताबिक, जिन 40 लोकसभा सीटों का बंटवारा फाइनल हुआ है, उसमें से शिवसेना (उद्धव ठाकरे) 15, कांग्रेस 14 और शरद पवार की एनसीपी 9 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ सकती है। जबकि वंचित बहुजन अघाडी और राजू शेट्टी की स्वाभिमानी शेतकरी को एक-एक सीट मिल सकती है।
यह भी पढ़ें

महाराष्ट्र: मराठा आरक्षण अध्यादेश के खिलाफ ओबीसी संगठन ने दायर की याचिका, बताया ‘असंवैधानिक’

बता दें कि महाविकास अघाडी में प्रकाश आंबडेकर की वंचित बहुजन अघाडी और राजू शेट्टी की स्वाभिमानी शेतकरी भी शामिल है। इन दोनों पार्टियों को एक-एक सीट देने पर सहमती बनी है। बताया जा रहा है कि ये दोनों सीटें उद्धव ठाकरे गुट के हिस्से से दी जाएंगी।
महाराष्ट्र में 2019 में एमवीए का गठन हुआ था। एमवीए गठबंधन में कांग्रेस, एनसीपी (शरद पवार) और शिवसेना (उद्धव गुट) शामिल है। जबकि तीनों दल ‘इंडिया’ अलायंस का भी हिस्सा है। राज्य के कुछ छोटे दल भी विपक्षी गठबंधन का हिस्सा है।
महाराष्ट्र की जिन आठ लोकसभा सीटों को लेकर खींचतान जारी है, उनमें- रामटेक, हिंगोली, वर्धा, भिवंडी, जालना, शिरडी, मुंबई दक्षिण मध्य और मुंबई उत्तर पश्चिम लोकसभा सीट शामिल हैं। दरअसल कांग्रेस मुंबई दक्षिण-मध्य और मुंबई उत्तर-पश्चिम लोकसभा सीट की मांग कर रही है। लेकिन 2019 में शिवसेना ने दोनों सीटें जीती थी। इसलिए शिवसेना (यूबीटी) इन दोनों सीटो को छोड़ने को तैयार नहीं है।
महाराष्ट्र की लोकसभा सीटों के बंटवारें को लेकर एमवीए की अगली बैठक 2 फरवरी को होगी। इस दौरान वंचित बहुजन अघाडी सीट आवंटन को लेकर अपना पक्ष रखेगी। अकोला लोकसभा सीट वंचित बहुजन अघाडी के लिए छोड़ा जा सकता है। ऐसे में देखना होगा कि क्या पार्टी इस एक सीट से संतुष्ट होगी या और और सीटों की मांग करेगी।

ट्रेंडिंग वीडियो