नीट में नागौर का परचम, 12वीं के साथ विद्यार्थियों ने पाई सफलता

जिले में बनने लगा पढ़ाई का माहौल, होनहार विद्यार्थी हर क्षेत्र में गाड़ रहे सफलता के झंडे
- जिले के 100 से अधिक विद्यार्थियों को सरकारी मेडिकल कॉलेज में प्रवेश मिलने की उम्मीद

By: shyam choudhary

Published: 18 Oct 2020, 07:57 PM IST

नागौर. समर्पित शिक्षकों की मेहनत एवं होनहार विद्यार्थियों की लग्न एवं परिश्रम से जिले में शिक्षा की तस्वीर बदल रही है। आज से दस साल पहले जहां नागौर का नाम शिक्षा के क्षेत्र में जिलों में लिया जाता था, वहां अब अग्रणी जिलों में गिनती होने लगी है। हो भी क्यों नहीं, क्योंकि जिले के विद्यार्थियों ने बोर्ड परीक्षाओं के साथ प्रतियोगी परीक्षाओं, नीट आईआईटी, आईएएस, आरएएस परीक्षा में जिले का डंका बजाया है। शुक्रवार को जारी किए गए नीट के परिणाम में भी जिले के विद्यार्थियों ने बेहतर परिणाम देते हुए अच्छे अंक प्राप्त किए हैं। इस परिणाम की पहली खास बात यह है कि कई विद्यार्थियों ने 12वीं उत्तीर्ण करने के साथ यह सफलता प्राप्त की है, वहीं दूसरी बड़ी बात यह है कि ज्यादातर विद्यार्थियों ने नागौर जिले में ही तैयारी कर सफलता प्राप्त की है।

अब तक जहां जिले के अभिभावकों में यह मानसिकता थी कि डॉक्टर या इंजिनियर बनाने के लिए बच्चे को कोटा या सीकर भेजना पड़ेगा, वहीं पिछले कुछ वर्षों से धीरे-धीरे यह बदलाव देखने को मिल रहा है, जिसमें अभिभावकों ने स्थानीय स्तर के शिक्षक संस्थानों पर भरोसा जताया और संस्थाओं के संचालकों ने उनकी उम्मीदों को पूरा किया है। वर्ष 2012 की जनगणना के अनुसार भले ही नागौर की साक्षरता दर 64.08 प्रतिशत थी और इसमें भी महिलाओं की साक्षरता दर 48.63 प्रतिशत थी। लेकिन अब स्थिति बदल चुकी है। नीट की परीक्षा में भी छात्राओं ने छात्रों के बराबर ताल ठोकी है। 12वीं में जिला टॉप करने वाली संस्कार एकेडमी की छात्रा आंचल बुगासरा ने नीट में भी अच्छे अंक प्राप्त कर जिले का नाम रोशन किया है।

इन प्रतिभाओं ने बढ़ाया नागौर का मान
छात्रा - आंचल बुगासरा
पिता का नाम - डॉ. प्रेमसिंह बुगासरा
अंक - 680

छात्र - रोहित चौधरी
पिता का नाम - कैलाश कुमार कासनियां
अंक - 662

छात्रा - पूजा जाजड़ा
पिता का नाम - घनश्याम जाजड़ा
अंक - 675

छात्र - श्यामसुंदर स्वामी
पिता का नाम - गोरधनदास
अंक - 650

छात्र - रमेश
पिता का नाम - जगराम जाखड़
अंक - 642

छात्र - अशोक खोजा
पिता का नाम - धनराज खोजा
अंक - 635

छात्र - धर्मेन्द्र
पिता का नाम - कैलाश डूकिया
अंक - 627

छात्रा - आस्था धौलिया
पिता का नाम - हरिराम धौलिया
अंक - 626

छात्र - रविन्द्र मुण्डेल
पिता का नाम - बाबूलाल मुण्डेल
अंक - 625

छात्रा - रुचि
पिता का नाम - प्रहलाद जाजड़ा
अंक - 614

छात्र - अंजू
पिता का नाम - रूसी थिरोदा
अंक - 553 (एससी)

छात्र - पायल
पिता का नाम - वेदराज कुलदीप
अंक - 543 (एससी)

छात्र - अभिषेक
पिता का नाम - श्रीगोपाल अरटवाल
अंक - 490 (एससी)


छात्र - रेणु जाखड़
पिता का नाम - सुखदेव जाखड़
अंक - 630

फोटो.. 61 - रेणु जाखुड

कठोर निर्णय लेने के साथ भरोसा करना होगा
बच्चों की सफलता में जितना सहयोग किसी शिक्षण संस्थान का है, उतनी ही जिम्मेदारी अभिभावकों की भी है। बच्चों को बाहर भेजकर निश्चिंत होने से सफलता नहीं मिल जाएगी। हमें स्थानीय संस्थाओं पर भरोसा करके घर का वातावरण बदलना होगा। बच्चों को कठोर परिश्रम के साथ समय का प्रबंधन भी करना होगा। यह सब होगा तो सफलता कहीं भी प्राप्त की जा सकती है।
- डॉ. प्रेमसिंह बुगासरा, कॉलेज व्याख्याता, नागौर

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned