वीडियो : उहापोह में नागौर के मानासर फाटक पर आरओबी का शिलान्यास, बार-बार फाटक बंद होने से मिलेगी निजात

आरओबी के साथ एलएचएस भी बनेगा, 11 मीटर चौड़ा व 1173 मीटर लम्बा होगा मानासर का रेलवे ओवरब्रिज, वर्क ऑर्डर जारी करने की प्रक्रिया अंतिम चरण में, आरओबी के नीचे छोटे वाहनों के लिए बनेगा अंडरब्रिज

By: shyam choudhary

Published: 07 Jun 2018, 12:11 PM IST

नागौर. नागौर शहर के मानासर रेलवे फाटक पर रेलवे ओवरब्रिज (आरओबी) का शिलान्यास गुरुवार को ऊहापोह की स्थिति के बाद सुबह 11 बजे को केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्री परषोत्तम रुपाला, केन्द्रीय राज्य मंत्री सीआर चौधरी, जिला प्रभारी मंत्री बंशीधर बाजिया, माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष हरीश कुमावत ने किया। आरओबी शिलान्यास को लेकर न तो सम्बन्धित विभाग ने मीडिया को अधिकारिक रूप से सूचना दी और न ही प्रशासन ने। इससे पहले बुधवार को केन्द्रीय कृषि मंत्री रुपाला की प्रेस कॉन्फ्रेंस की सूचना भी दी गई, लेकिन गुरुवार सुबह ऐनवक्त पर प्रेस कॉन्फ्रेंस स्थगित कर दी।
आरओबी के शिलान्यास मौके पर नागौर विधायक हबीबुर्रहमान, जायल विधायक मंजू बाघमार, मकराना विधायक श्रीराम भींचर, कलक्टर कुमारपाल गौतम, एसपी परिस देशमुख, भाजपा प्रदेश मंत्री सरोज प्रजापत, भाजपा नेता जगवीर छाबा, अर्जुनराम मेहरिया, महावीरसिंह सांदू, उम्मेदसिंह राजपुरोहित, हरिराम लोमरोड़ सहित भाजपा के पार्टी पदाधिकारी उपस्थित रहे। 29 करोड़ 23 लाख रुपए के बजट से मानासर फाटक पर आरओबी के साथ लिमिटेड हाइट सब-वे (एलएचएस) भी बनेगा, जहां से छोटे वाहन गुजर सकेंगे। आरओबी व एलएचएस बनने के बाद मानासर पर बार-बार फाटक बंद होने से लगने वाले जाम से निजात मिलेगी।

 

एक किमी से लम्बा होगा आरओबी
मानासर फाटक आरओबी की लम्बाई 1173 मीटर होगी यानी कॉलेज रोड से जोधपुर रोड की तरफ बनने वाला आरओबी एक किलोमीटर 173 मीटर लम्बा तथा 11 मीटर चौड़ा होगा। आरओबी का पूरा बजट केन्द्र सरकार की ओर से दिया गया है।


छोटे वाहनों को नहीं होगी परेशानी
मानासर फाटक पर बनने वाले आरओबी के साथ एक एलएचएस भी बनाया जाएगा। दरअसल, एलएचएस, अंडरब्रिज का छोटा रूप है, जिससे दुपहिया व छोटे वाहन निकल सकेंगे। मानासर फाटक पर बनने वाला आरओबी कॉलेज रोड से शुरू होकर जोधपुर रोड की ओर जाएगा, ऐसे में कलक्ट्रेट की ओर से जाने वाले वाहन चालकों को परेशानी न हो, इसके लिए विभागीय अधिकारियों ने इसकी विशेष अनुमति ली है।

दर्जनों रेलों का मार्ग
आरओबी बनने से मानासर फाटक पर बार-बार लगने वाले जाम से भी निजात मिलेगी। दरअसल, मेड़ता रोड से बीकानेर की ओर जाने व आने वाली रेलों की संख्या 24 घंटे में दो दर्जन से अधिक है और ज्यादातर रेलों का नागौर रेलवे स्टेशन पर ठहराव है। इसके साथ मालगाडिय़ां भी यहां से निकलती है, जिसके कारण दिन-रात में 5 से 7 घंटे तक फाटक बंद रहती है। आरओबी बनने के बाद इससे निजात मिल जाएगी।

shyam choudhary Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned