scriptAround 1,000 years old Lord Vishnu idol along with Shivling recovered in Karnataka | कृष्णा नदी में मिली रामलला की हूबहू मूर्ति, एक हजार साल पुराना शिवलिंग भी | Patrika News

कृष्णा नदी में मिली रामलला की हूबहू मूर्ति, एक हजार साल पुराना शिवलिंग भी

locationनई दिल्लीPublished: Feb 07, 2024 04:53:45 pm

Submitted by:

Shaitan Prajapat

तेलंगाना-कर्नाटक सीमा के पास कृष्णा नदी के किनारे भगवान विष्णु की एक प्राचीन मूर्ति और एक शिवलिंग मिला है। बताया जा रहा है कि यह 1000 साल पुरानी है।

centuries-old_vishnu_idol_shivling00.jpg

कर्नाटक के रायचूर जिले के देवसुगुर गांव के पास कृष्णा नदी से भगवान विष्णु की एक प्राचीन मूर्ति और एक शिवलिंग मिला है। भगवान विष्णु की मूर्ति जिसमें सभी दस अवतारों को चित्रित किया गया है। सबसे खास बात यह है कि इस मुर्ति की छवि अयोध्या के राम मंदिर में हाल ही में प्रतिष्ठित भगवान राम की मूर्ति से मिलती जुलती है। कयास लगाए जा रहे है कि इस्लामिक आक्रमणकारियों से बचाने के लिए इन मूर्तियों को वहां दफन कर दिया होगा।

11वीं या 12वीं शताब्दी ईस्वी पूर्व की हैं मूर्तियां

ये मूर्तियां शक्तिनगर के पास कृष्णा नदी पर एक पुल के निर्माण के दौरान नदी के किनारे मिली है। काम कर रही टीम ने उन्हें सुरक्षित निकाला और तुरंत स्थानीय प्रशासन को इसकी सूचना दी। जांच करने वाले पुरातत्वविदों का कहना है कि यह मूर्तियां ग्यारहवीं या बारहवीं शताब्दी ईस्वी पूर्व की हैं।

मूर्तियों को बचाने के लिए नदी में डुबोया गया

प्रसिद्ध इतिहासकार पद्मजा देसाई के अनुसार, दस अवतारों को दर्शाने वाली आभा के साथ खड़ी विष्णु की मूर्ति 11वीं सदी के कल्याण चालुक्य वंश की मानी जाती है। इन मूर्तियों को तराशने के लिए इस्तेमाल की गई हरी मिश्रित चट्टान कल्याण चालुक्यों के समय से उनकी उत्पत्ति का संकेत देती है। अनुमान लगाया जा रहा है कि इन कलाकृतियों को अंतर-धार्मिक युद्धों के दौरान विरोधियों से बचाने के लिए जानबूझकर नदी में डुबोया गया होगा।

मूर्ति में भगवान विष्ण के दस अवतारों के दर्शन

रायचूर विश्वविद्यालय में प्राचीन इतिहास और पुरातत्व व्याख्याता डॉ. पद्मजा देसाई ने कहा कि भगवान विष्णु की मूर्ति किसी मंदिर के गर्भगृह की शोभा बढ़ाती होगी। मंदिर के संभावित विनाश के समय उसे नदी में गिरा दिया गया होगा। कृष्णा बेसिन में पाई गई मूर्ति अद्वितीय विशेषताओं को प्रदर्शित करती है। यह 'दशावतार' या मत्स्य, कूर्म, वराह, नरसिम्हा, वामन, राम, परशुराम, कृष्ण, बुद्ध और कल्कि सहित भगवान विष्णु के दस अवतारों को दर्शाने वाले एक चाप से घिरा हुआ है।

यह भी पढ़े- दिल्ली में फर्जी अंतरराष्ट्रीय वीजा रैकेट का भंडाफोड़, वकील सहित तीन लोग गिरफ्तार

यह भी पढ़ें

पंजाब पुलिस ने यूट्यूबर रचित कौशिक को किया गिरफ्तार किया, जानिए पूरा मामला

ट्रेंडिंग वीडियो