scriptAssam: School Running Fan and computers on solar power system in dima hasao | बिजली के बिना इस स्कूल में चलते हैं पंखे और कंप्यूटर, जानिए कैसे? | Patrika News

बिजली के बिना इस स्कूल में चलते हैं पंखे और कंप्यूटर, जानिए कैसे?

असम के डिमा हासाओ स्थित एक स्कूल के होस्टल में रहकर 200 से अधिक बच्चे पढ़ाई करते हैं। सबसे खास बात ये है कि पूरे स्कूल में पंखे, कम्प्यूटर बिजली से नहीं बल्कि सौर ऊर्जा से चलते हैं।

नई दिल्ली

Updated: May 17, 2021 08:47:12 pm

डिमा हासाओ। बिजली के बिना कुछ भी कल्पना करना आज के समय में मुमकिन नहीं है। यानी कि बिना बिजली के रह पाना संभव नहीं है। किसी भी काम को करने के लिए बिजली की आवश्यकता होती है। लेकिन असम के एक इलाके में स्थित स्कूल में बिजली के बिना ही सब काम होते हैं।

assam_school.png
Solar System in School

दरअसल, असम के डिमा हासाओ एक ऐसा हिल स्टेशन है जो राजधानी गुवाहाटी से 350 किलोमीटर दूर है। यह छोटा सा शहर पहाड़ों और जंगलों से घिरा है। यही कारण है कि डिमा हासाओ को पूर्वोत्तर भारत का स्विट्ज़रलैंड भी कहा जाता है।

यह भी पढ़ें
-

प्रदेश के दूसरे सबसे बड़े सोलर पार्क में अगले वर्ष शुरू होगा विद्युत उत्पादन

असम एक पहाड़ी इलाका है। ऐसे में यहां बादल और बारिश का मौसम अधिक बना रहता है। ऐसे में असम के कई इलाकों में बिजली की समस्या बनी रहती है। यदि शहरी इलाकों यानी गुवाहाटी, तेजपुर, नगांव और डिब्रूगढ़ की बात करें तो यहां बिजली की समस्या का काफी हद तक कम है, लेकिन शहर से 30-40 दूर के इलाकों में बिजली की समस्या देखने को मिलती रहती है। चूंकि इन ग्रामीण इलाकों में पहाड़ों पर अधिक घर बसे होने की वजह से बिजली की समस्या बनी रहती है।

लेकिन डिमा हासाओ में एक ऐसा स्कूल है, जहां पर होस्टल में रहकर 200 से अधिक बच्चे पढ़ाई करते हैं। इस स्कूल की खास बात ये है कि यहां पर बिजली न होने के बावजूद पंखे चलते हैं और यहां बल्ब भी जलते हैं। यानी कि बिजली से जुड़े सभी काम होते हैं।

30 दिन में स्कूल में लगा था सोलर पैनल

दरअसल, इस स्कूल में बिजली के लिए पारंपरिक साधन का नहीं बल्कि सौर ऊर्जा का इस्तेमाल किया जाता है। यहां पर सौर ऊर्जा के जरिए ही पंखे, कंप्यूटर चलाए जाते हैं। स्कूल प्रशासन ने लूम सोलर मोनो पैनल के साथ बैटरी और इन्वर्टर लगाया है। इसकी क्षमता 22.5 किलोवाट की है। बारिश के मौसम में भी कम धुप और बादल के दौरान मोनो पैनल बहुत कारगर है।

जानकारी के मुताबिक, असम के सोलर इंस्टालेशन कंपनी Aarohm Energy Pvt. Ltd. ने अगस्त 2020 में स्कूल में यह सोलर सिस्टम लगया था। करीब एक साल बाद भी सोलर सिस्टम पूरी तरह से सही चल रहा है। पूरी स्कूल के टीन शेड छत पर सोलर सिस्टम लगा हुआ है। इसे लगाने में करीब 30 दिन लगे थे। 22.5 किलोवाट सोलर सिस्टम दिन में 150Ah के 20 बैटरी को चार्ज करता है और रात के समय में बच्चो की पढ़ाई के लाइट और पंखा इसी से चलता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

IPL 2022 LSG vs KKR : डिकॉक-राहुल के तूफान में उड़ा केकेआर, कोलकाता को रोमांचक मुकाबले में 2 रनों से हरायानोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेरपुलिस में मामला दर्ज, नाराज कांग्रेस विधायक का इस्तीफा, जानें क्या है पूरा मामलाडिकॉक-राहुल ने IPL में रचा इतिहास, तोड़ डाला वार्नर और बेयरेस्टो का 4 साल पुराना रिकॉर्डDelhi LG Resigned: दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिया इस्तीफा, निजी कारणों का दिया हवालाIndia-China Tension: पैंगोंग झील पर बॉर्डर के पास दूसरा पुल बना रहा चीन, सैटेलाइट इमेज से खुलासाWatch: टेक्सास के स्कूल में भारतीय अमेरिकी छात्र का दबाया गला, VIDEO देख भड़की जनताHeavy rain in bangalore: तेज बारिश से दो मजदूरों की मौत, मुख्यमंत्री ने की मुआवजे की घोषणा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.