scriptMartyr's body found in Siachen after 38 years, 19 soldiers were buried in 1984 | 38 साल बाद शहीद लांसनायक चंद्रशेखर का मिला शव, सियाचिन ग्लेशियर की बर्फ में दबकर हो गए थे शहीद | Patrika News

38 साल बाद शहीद लांसनायक चंद्रशेखर का मिला शव, सियाचिन ग्लेशियर की बर्फ में दबकर हो गए थे शहीद

सियाचिन ग्लेशियर में हिमस्खलन से शहीद हुए लांसनायक चंद्रशेखर का शव 38 साल बाद मिला है। हिमस्खलन की चपेट में कई सैनिकों का पार्थिव शरीर उसी दौरान सेना के जवानों ने ढूंढ लिया था लेकिन लांसनायक चंद्रशेखर हर्बोला समेत एक और सैनिक लापता हो गए थे।

नई दिल्ली

Published: August 14, 2022 10:08:27 pm

सियाचिन के ग्लेशियर पर रहना बेहद मुश्किल और जानलेवा है। वहीं मई 1984 को बटालियन लीडर लेफ्टिनेंट पीएस पुंडीर के नेतृत्व में 19 जवानों का दल ऑपरेशन मेघदूत के लिए निकला था। 29 मई को भारी हिमस्खलन से पूरी बटालियन दब गई थी, जिसके बाद उन्हें शहीद घोषित कर दिया गया था। इन्ही में से एक जवान का शरीर 38 बाद मिला है। हिमस्खलन में दबकर शहीद हुए लांसनायक चंद्रशेखर हर्बोला का पार्थिव शरीर इतने सालों के बाद मिला।
Martyr's body found in Siachen after 38 years, 19 soldiers were buried in 1984
Martyr's body found in Siachen after 38 years, 19 soldiers were buried in 1984

38 साल बद मिला शहीद का पार्थिव शरीर


बताया जा रहा है कि 38 साल बाद ऑपरेशन मेघदूत में शहीद हुए लांसनायक चंद्रशेखर हर्बोला (बैच संख्या 5164584) का पार्थिव शरीर 13 अगस्त को एक पुराने बंकर में मिला। एक अधिकारी के अनुसार, "13 अगस्त को सियाचिन में 16,000 फीट से अधिक ऊंचाई पर एक सैनिक का कंकाल मिला था। अवशेषों के साथ सेना के नंबर वाली एक बैच भी मिला, जिससे उनके पार्थिव शरीर का पता लगाया गया।" लांसनायक चंद्रशेखर हर्बोला 19 कुमाऊ रेजीमेंट का पार्थिव शरीर सोमवार या मंगलवार को उनके घर हल्द्वानी पहुंचेगा और उनके परिवार को सौंप दिया जाएगा।
 

जानकारी मिलने पर परिवार में गम और खुशी दोनों


शनिवार रात शहीद की पत्नी शांति देवी को फोन से जानकारी मिली कि शहीद लांसनायक चंद्रशेखर का पार्थिव शरीर ग्लेशियर से बरामद हुआ है। इसकी जानकारी सुनकर हर्बोला के परिवार में गम और खुशी दोनों है। शहीद हर्बोला की दो बेटियां हैं। वहीं, शहीद के शव मिलने की सूचना मिलने पर रविवार को SDM मनीष कुमार सिंह और तहसीलदार संजय कुमार के साथ प्रशासन की टीम शहीद के रामपुर रोड स्थित डहरिया सरस्वती विहार पहुंची। एसडीएम ने शोक संवेदना व्यक्त करते हुए परिजनों को ढांढस बधाया।
 

ऑपरेशन मेघदूत के दौरान हिमस्खलन की चपेट में आ गए थे सैनिक


लांसनायक चंद्रशेखर उस टीम का हिस्सा थे, जिसे प्वाइंट 5965 पर कब्जा करने का काम दिया गया था। इस प्वाइंट पर पाकिस्तान की नजर थी। ऑपरेशन मेघदूत के दौरान कई सैनिक हिमस्खलन की चपेट में आ गए थे। इनमें से कई सैनिकों के पर्थिव शरीर का पता उसी समय लग गया था। लांसनायक चंद्रशेखर हर्बोला और एक सैनिक का शव नहीं पता चला था, जो अब 38 साल बाद मिला।
 

1971 में कुमाऊं रेजिमेंट में हुए थे भर्ती


उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले के रानीखेत तहसील अंतर्गत बिन्ता हाथीखुर गांव निवासी लांसनायक चंद्रशेखर हर्बोला 15 दिसम्बर 1971 में कुमाऊं रेजिमेंट में भर्ती हुए थे। 29 मई को भारी हिमस्खलन के कारण पूरी बटालियन दब गई थी, जिसके बाद उन्हें शहीद घोषित कर दिया गया। उस समय लांसनायक चंद्रशेखर की उम्र 28 साल थी।

यह भी पढ़ें

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का देश के नाम संबोधन, कहा - '2047 तक हम अपने स्वाधीनता सेनानियों के सपनों को पूरी तरह साकार कर लेंगे'

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

इंडोनेशिया में फुटबॉल मैच के दौरान हुए दंगे से 150 से अधिक लोगों की मौत, सैकड़ों घायलPune: नोएडा ट्विन टावर्स की तरह विस्फोटक लगाकर चांदनी चौक पुल को किया गया ध्वस्त, देखें VIDEOदिल्ली एम्स में अब ओपीडी में दिखाने के नहीं लगेंगे पैसे, ये टेस्ट भी होंगे फ्रीगांधी जयंती: राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, पीएम मोदी, सोनिया गांधी सहित अन्य नेताओं ने बापू को दी श्रद्धांजलिगांधीवादी पीवी राजगोपाल का बड़ा सवाल, राष्ट्रीय पशु-पक्षी के लिए कानून, लेकिन राष्ट्रपिता के लिए क्यों नहींIND vs SA: दूसरा टी20 जीत इतिहास रचना चाहेगा भारत, जानें कब कहां और कैसे देखें मैचNavi Mumbai Building Collapsed: नवी मुंबई में चार मंजिला इमारत गिरी, एक की मौत, कई लोगों के दबे होने की आशंकाNo PUC - No Fuel: दिल्ली में इस दिन से बिना PUC के नहीं मिलेगा पेट्रोल, जानें क्या है नया नियम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.