scriptSri Lanka official PM Modi Adani project, Gotabaya denies | क्या सच में अडानी को काम दिलाने के लिए PM मोदी ने राजपक्षे पर डाला दबाव? राष्ट्रपति गोटबाया ने बताया पूरा सच | Patrika News

क्या सच में अडानी को काम दिलाने के लिए PM मोदी ने राजपक्षे पर डाला दबाव? राष्ट्रपति गोटबाया ने बताया पूरा सच

Sri Lanka: श्रीलंका के एक अधिकारी ने दावा किया था कि भारतीय प्रधानमंत्री मोदी ने अडानी समूह को प्रोजेक्ट देने के लिए दबाव बनाया था। इस बयान पर जारी विवाद के बीच श्रीलंका के राष्ट्रपति ने मामले पर अपनी राय रखी है।

Published: June 13, 2022 12:39:29 pm

भारत में मोदी सरकार पर गौतम अडानी को फ़ेवर करने के आरोप लगते रहें हैं। विपक्षी दल कई अवसरों पर इस मुद्दे के जरिए केंद्र पर निशाना साधते रहे हैं। इस बीच श्रीलंका में भी गौतम अडानी को काम दिलाने के लिए पीएम मोदी दबाव डाल रहे जैसी खबरें सामने आई हैं। इसके बाद विपक्ष को एक बार फिर मोदी सरकार को घेरने का अवसर मिल गया लेकिन अब खुद राष्ट्रपति गोटबाया ने इन आरोपों से इनकार किया है। यही नहीं श्रीलंका जिस अधिकारी ने ये दावा किया था उसने भी अपने बयान के लिए माफी मांगी है।
Sri Lanka official says PM wanted Adani to get project, Gotabaya denies Allegations
Sri Lanka official says PM wanted Adani to get project, Gotabaya denies Allegations
गोटबाया ने आरोपों से किया इनकार
गोटबाया ने इसपर जानकारी देती हुए कहा, 'मैं CEB अध्यक्ष के आरोपों से इनकार करता हूँ। मैंने ऐसे किसी भी विशिष्ट संस्था को मन्नार का प्रोजेक्ट देने के लिए नहीं कहा था।' हालांकि, ये खबर भारत में आग की तरह फैल गई और विपक्ष ने मौका देख बीजेपी को घेरना शुरू कर दिया। राहुल गांधी ने लिखा, 'BJP की उद्योगपतियों को फ़ायदा पहुँचाने की नीति अब श्रीलंका तक चली गई है।'
क्या है मामला?
दरअसल, श्रीलंका के सीलोन इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड (CEB) के अध्यक्ष एमएमसी फर्डिनेंडो ने कोलंबो में एक संसदीय पैनल के सामने ये गवाही दी कि उन्हें राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे ने बताया था कि कैसे भारत के पीएम नरेंद्र मोदी ने अडानी समूह को काम दिलाने के लिए दबाव डाला था। उनके इस बयान से जुड़ी वीडियो क्लिप भी सामने आई है। इसमें वो कह रहे हैं कि 24 नवंबर 2021 को राष्ट्रपति ने एक बैठक के बाद मुझे बुलाया था और कहा था कि भारतीय प्रधानमंत्री मोदी ने अडानी समूह को 500 मेगावाट के रिन्यूएबल एनर्जी प्रोजेक्ट देने के लिए दबाव बना रह हैँ।

अधिकारी ने ये जवाब पैनल के उस सवाल पर दिया जिसमें पूछा गया था कि उन्होंने क्यों इस प्रोजेक्ट के लिए अडानी समूह को चुना। इस मामले पर विवाद बढ़ता देखा CEB के अधिकारी ने भी अपने ही बयान से यू टर्न ले लिया है। उन्होंने कहा कि भावना से उबरने के बाद झूठ कहा था।

यह भी पढ़ें

Sri Lanka में अब तक का सबसे बड़ा संकट, केवल एक दिन का बचा है पेट्रोल

श्रीलंका में अडानी समूह की उपस्थिति बढ़ी
गौरतलब है कि बीते कुछ वर्षों में अडानी समूह श्रीलंका में अपनी उपस्थिति को बढ़ा रहा है। बीते वर्ष ही इस समूह ने कोलंबो बंदरगाह के पश्चिमी कंटेनर टर्मिनल को विकसित करने का कांट्रैक्ट 51% हिस्सेदारी के साथ हासिल किया था। इस वर्ष इस समूह ने दो रिन्यूवेबल एनर्जी प्रोजेक्ट्स, एक मन्नार और दूसरा पूनेरिन में हासिल किया है। ऐसे में अडानी समूह को लेकर श्रीलंका के अधिकारी का ये बयान कई सवाल खड़े करता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: उद्धव ठाकरे के इस्तीफे के बाद बीजेपी की बैठक आज, देवेंद्र फडणवीस करेंगे बड़ी घोषणाMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में फिर बनेगी बीजेपी की सरकार, देवेंद्र फडणवीस 1 जुलाई को ले सकते है सीएम पद की शपथWeather Update: दिल्ली-एनसीआर में मानसून की दस्तक, IMD ने जारी किया आंधी-तूफान का अलर्टउदयपुर मर्डर : आरोपियों के घर से जब्त की सामग्री, चार और संदिग्ध हिरासत मेंइलाहाबाद हाईकोर्ट से अनिल अंबानी को मिली राहत, उत्पीड़न कार्रवाई पर लगी रोक, जानिए पूरा मामलादो जुलाई से इन सुपरफास्ट ट्रेनों में कर सकेगें जनरल टिकट पर यात्राMaharashtra Political Crisis: उद्धव सरकार गिरने के बाद Twitter पर ट्रेंड कर रहा है 'उखाड़ दिया' हैशटैग, यूजर्स के निशाने पर हैं संजय राउतWorld Athletic Championhip:भारत को बड़ा झटका, सीमा पुनिया, भावना जाट और राहुल चैंपियनशिप से हटे
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.