scriptUttarkashi tunnel collapse rescue: Ludo and cards will be sent to workers trapped in tunnel | Uttarkashi Tunnel Collapse: सुरंग में फंसे मजूदर खेलेंगे लूडो और ताश, जानिए एनडीआरएफ का क्या है प्लान? | Patrika News

Uttarkashi Tunnel Collapse: सुरंग में फंसे मजूदर खेलेंगे लूडो और ताश, जानिए एनडीआरएफ का क्या है प्लान?

locationनई दिल्लीPublished: Nov 24, 2023 02:55:02 pm

Submitted by:

Shaitan Prajapat

बचाव अभियान के आखिरी चरण में मनोवैज्ञानिक चिकित्सकों के सुझाव पर सुरंग में फंसे मजदूरों के लिए लूडो और ताश के पत्ते भेज रही है। ताकि उन्हें मानसिक मजबूती मिलेगी।

uttarkashi_rescue_operation.jpg

उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले की सिलक्यारा सुरंग में फंसे 41 मजदूरों को बाहर निकालने के लिए युद्ध स्तर पर बचाव कार्य जारी है। बचाव दल उत्तराखंड में एक ध्वस्त सुरंग के अंदर फंसे श्रमिकों को बचाने के अभियान के समापन के करीब पहुंच रहे हैं। बचाव दल के सदस्य गिरीश सिंह रावत ने कहा कि बचाव अभियान लगभग अपने अंतिम चरण में है। 13 दिनों से सुरंग के अंदर फंसे मजदूरों के दिमाग पर भारी स्ट्रेस है। बचाव अभियान के आखिरी चरण में मनोवैज्ञानिक चिकित्सकों के सुझाव पर मजदूरों तक लूडो और ताश के पत्ते भेजने की योजना बनाई है। सुरंग बनाने के एक्सपर्ट अर्नोल्ड डिक्स ने कहा कि बरमा मशीन खराब होने के बाद कल देर रात ड्रिलिंग कार्य रोकना पड़ा था। हालांकि, PMO के पूर्व सलाहकार भास्कर खुल्बे ने कहा, अभी स्थिति काफी ठीक है।


सुरंग के अंदर मजदूर खेलेंगे लूडो, शतरंज और ताश

बचाव अभियान के आखिरी चरण में मनोवैज्ञानिक चिकित्सकों के सुझाव पर सूरंग में फंसे मजदूरों के लिए लूडो, शतरंज और ताश के पत्ते भेजने वाले है। ताकि अंदर खेल कर मजदूर थोड़े आराम मिल सकेगा। इससे उन्हें मानसिक मजबूती मिलेगी। बचाव स्थल पर मौजूद मनोचिकित्सक डॉ. रोहित गोंडवाल ने कहा है, अंदर फंसे हुए सभी 41 मजदूर स्वस्थ हैं, लेकिन उन्हें मानसिक तौर पर भी स्वस्थ रखना जरूरी है। मजदूरों का तनाव दूर करने में मदद के लिए लूडो, शतरंज और ताश उपलब्ध कराने की योजना बना रहे है।

टनल के अंदर भेजा जाएगा ड्रोन

सिल्कयारा सुरंग में फंसे श्रमिकों को निकालने के लिए बचाव अभियान की स्थिति पर नजर रखने के लिए ड्रोन कैमरों का इस्तेमाल किया जा रहा है। एक कमांडेंट के नेतृत्व में 15 सदस्यीय एनडीआरएफ टीम को बचाव अभियान सौंपा गया है। टनल के अंदर ड्रोन तकनीकी का इस्तेमाल भी करने की योजना है जिसके पता चल सके की टनल के अंदर रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान किस तरह की दिक्क़तें आ सकती हैं और उसको दूर कैसे किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें

शहीद अब्दुल मजीद की शहादत सुनकर होगा फ्रख, भाई भी दे चुका है कुर्बानी... परिवार के 40 जवान सेना की सेवा में


ऑगर ड्रिलिंग मशीन में फिर आई खराबी

ऑगर ड्रिलिंग मशीन में तकनीकी खराबी के कारण उत्तरकाशी सुरंग में बचाव अभियान एक बार फिर रुक गया है। गुरुवार को जब बचाव अभियान अपने अंतिम चरण में था तो जिस प्लेटफॉर्म पर उपकरण लगा हुआ था उसमें कुछ दरारें आ गईं।

यह भी पढ़ें

Good News: कतर से आई बड़ी खबर नौसैनिक होंगे रिहा, जानिए कैसे होगी रिहाई




ट्रेंडिंग वीडियो