दिल्ली: केजरीवाल सरकार के इस योजना के खिलाफ किसानों ने बुलंद की आवाज

दिल्ली: केजरीवाल सरकार के इस योजना के खिलाफ किसानों ने बुलंद की आवाज

Anil Kumar | Publish: Sep, 02 2018 07:30:13 PM (IST) New Delhi, Delhi, India

किसानों ने दिल्ली सरकार के सोलर पैनल योजना के खिलाफ विरोध करना शुरू कर दिया है। किसानों का कहना है कि सरकार ने इस योजना के बहाने उनकी जमीन लेकर बड़े-बड़े कंपनियों को देने की साजिश की है।

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के किसानों ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के एक योजना के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद कर दी है। किसानों ने सरकार पर आरोप लगाते हुए विरोध तेज कर दिया है। दरअसल किसानों ने दिल्ली सरकार के सोलर पैनल योजना के खिलाफ विरोध करना शुरू कर दिया है। किसानों का कहना है कि सरकार ने इस योजना के बहाने उनकी जमीन लेकर बड़े-बड़े कंपनियों को देने की साजिश की है। कांग्रेस पार्टी से जुड़े किसान नेता डॉ. नरेश कुमार ने केजरीवाल सरकार के खिलाफ इस योजना को लेकर किसानों की गोलबंदी करना शुरू कर दिया है। कुमार ने इस संबंध में रविवार 11 बजे महापंचायत का भी आयोजन किया।

केजरीवाल सरकार का बड़ा ऐलान, दिल्लीवालों को इस क्षेत्र में मिलेगा 80 फीसदी आरक्षण

किसानों ने रखी नई शर्त

आपको बता दें कि इस महापंचायत को संबोधित करते हुए नरेश कुमार ने कहा कि 47 गावों में वह स्वयं जाकर किसानों से बातचीत की है। किसानों ने उन्हें बताया कि जब एक एकड़ जमीन से प्राइवेट कंपनी 20 लाख रुपए की बिजली पैदा करेगी तो किसानों को सिर्फ एक लाख रुपए ही क्यों देने की बात कही गई है। किसान अपनी जमीन प्राइवेट कंपनियों को 25 वर्ष के तक देने को तैयार नहीं है। उनका कहना है कि 25 वर्ष बाद एक एकड़ जमीन की कीमत एक अरब से भी ज्यादा हो जाएगी। नरेश कुमार ने कहा कि सरकार के इस योजना में बहुत सारी बिसंगतियां हैं। जिसमें दिल्ली मास्टर प्लान 2021 का उल्लंघन, भूमि सुधार अधिनियम के तहत धारा 81 का उल्लंघन प्रमुख रूप से शामिल है। नरेश कुमार ने सरकार से मांग की है कि इस योजना में पीपीपी मॉडल के तहत किसान और कंपनी की 50-50 प्रतिशत की साझेदारी हो। किसानों को एक लाख रुपए रॉयलटी मिले। साथ ही हर वर्ष रॉयलटी में 10 प्रतिशत का इजाफा किया जाए। इसके अलावे किसानों को एक हजार यूनिट बिजली मुफ्त मे दी जाए। कंपनी के साथ 25 वर्ष का करार की जगह 10 वर्ष के लिए की जाए। उन्होंने कहा कि सरकार मास्टर प्लान की धारा 81 के उल्लंघन को खत्म करे और सबकी खेवट अलग की जाए।

केजरीवाल ने पीएम मोदी की एक महत्वकांक्षी योजना पर लगाया अड़ंगा, कुछ बदलाव करने की रखी मांग

सोलर पैनल लगाने की है योजना

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पिछले दिनों दिल्ली कैबिनेट की बैठक में दिल्ली के ग्रीन बेल्ट के सभी 47 गांवों में सोलर संयंत्र लगाने का फैसला किया गया था। सरकार की इस योजना के तहत 6 एकड़ कृषि भूमि में एक मेगावाट का सोलर संयंत्र लगाया जाएगा। किसानों को इसके बदले सरकार प्रति एकड़ एक लाख रुपए किराए के तौर पर भुगतान करेगी और हर वर्ष 6 प्रतिशत की बढ़ोतरी भी की जाएगी। साथ ही किसानों को एक हजार यूनिट मुफ्त में बिजली दी जाएगी। यह करार 25 वर्षों के लिए होगा। इस योजना के अंतर्गत नजफगढ़ मटियाला, मुंडका, बवाना, नरेला, महिपालपुर विधानसभा क्षेत्र में ग्रीन बेल्ट के गांव आते हैं। लेकिन अब किसानों ने सरकार के इस योजना के खिलाफ गोलबंदी करते हुए अपनी आवाज बुलंद कर रहे हैं।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned