सपा के बाद बसपा सांसदों के भाजपा में शामिल होने को लेकर हुआ बड़ा फैसला, उपचुनाव से पहले नहीं सोचा होगा ऐसा

सपा के बाद बसपा सांसदों के भाजपा में शामिल होने को लेकर हुआ बड़ा फैसला, उपचुनाव से पहले नहीं सोचा होगा ऐसा

Rahul Chauhan | Updated: 22 Aug 2019, 04:40:10 PM (IST) Noida, Gautam Budh Nagar, Uttar Pradesh, India

खबर की मुख्य बातें-

-बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी इस बार उपचुनाव में अपने उम्मीदवार उतारने की घोषणा की है

-विपक्षी पार्टियों के नेताओं का भाजपा में शामिल होने का सिलसिला भी जारी है

-हाल ही में समाजवादी पार्टी के तीन पूर्व सांसदों ने भाजपा का दामन थाम लिया

नोएडा। उत्तर प्रदेश में कई विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनावों को लेकर सभी राजनीतिक पार्टियों ने तैयारी शुरू कर दी है। इसी कड़ी में बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी इस बार उपचुनाव में अपने उम्मीदवार उतारने की घोषणा की है। वहीं विपक्षी पार्टियों के नेताओं को भाजपा में शामिल होने का सिलसिला भी जारी है। हाल ही में समाजवादी पार्टी के तीन पूर्व सांसदों ने भाजपा का दामन थाम लिया।

यह भी पढ़ें: इन बसपा सांसदों के भाजपा में शामिल होने की आई खबर, दिग्गजों ने सामने आकर किया बड़ा खुलासा

यह भी चर्चा है कि सपा के बाद अब बसपा के मनोबल को भी कम करने के लिए भाजपा द्वारा रणनीति तैयार की जा रही है। चर्चा है कि बसपा के कुछ सांसद भाजपा में शामिल हो सकते हैं। इनमें वेस्ट यूपी के बसपा सांसदों का भी नाम लगातार सुर्खियों में बना हुआ है। इस सबके बीच बसपा सांसदों के भाजपा में शामिल होने को लेकर बड़ा फैसला हुआ है।

यह भी पढ़ें : राजनाथ सिंह के बेटे को मिला ये सम्मान, हर कोई विधायक साहब की कर रहा तारीफ

दरअसल, वेस्ट यूपी के अमरोहा से सांसद कुंवर दानिश अली, सहारनपुर सांसद हाजी फजलुर्रहमान, नगीना सांसद गिरीश चंद और बिजनौर सांसद मलूक नागर से जब इस बाबत बात की गई तो उन्होंने इसे महज एक अफवाह करार दिया।

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश के इस जिले में भाजपा में शामिल हुए 20 हजार मुस्लिम, संगठन में खुशी की लहर

बसपा सासंद गिरीश चंद ने इस बारे में पूछे जाने पर कहा कि काफी समय से मैं बसपा के साथ रहा हूं और मैं बसपा को छोड़ने की सोच भी नहीं सकता। वहीं बिजनौर सांसद मलूक नागर ने कहा कि यह महज एक अफवाह है। मैं बसपा छोड़कर कहीं नहीं जा रहा हूं।

गौरतलब है कि 2019 लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में बसपा और सपा ने गठबंधन कर चुनाव लड़ा। दोनों पार्टियों ने सीटों का बंटवारा कर अपने-अपने उम्मीदवार मैदान में उतारे। इस चुनाव में पिछले लोकसभा के मुकाबले बसपा ने वेस्ट यूपी में काफी अच्छा प्रदर्शन किया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned