तब शीला दीक्षित ने कहा था, दिल्ली तो ओलंपिक खेलों का आयोजन करने में भी है सक्षम

2010 में दिल्ली में हुए राष्ट्रमंडल खेल के आयोजन की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काफी तारीफ हुई थी

By: Mazkoor

Updated: 20 Jul 2019, 10:46 PM IST

नई दिल्ली : शीला दीक्षित ( Sheila Dikshit ) 15 साल तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं, लेकिन उनके इस लंबे कार्यकाल के दौरान सबसे ज्यादा चर्चा और विवाद दिल्ली में राष्ट्रमंडल खेलों ( Common wealth Games ) के आयोजन को लेकर हुआ था। तमाम तरह के आरोपों के बीच नई दिल्ली में आयोजित 2010 का राष्ट्रमंडल खेल काफी कामयाब रहा था और इसकी प्रशंसा न सिर्फ राष्ट्रीय, बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी हुई थी। तब इससे गदगद शीला दीक्षत ने प्रेस से बात करते हुए कहा था कि दिल्ली ओलंपिक खेलों ( Olympic game ) की मेजबानी करने में भी सक्षम है। तब राष्ट्रमंडल खेल के उद्घाटन समारोह में शामिल होने आए आईओए के तत्कालीन अध्यक्ष जैक्स रोगे ने राष्ट्रमंडल खेल की बेहतरीन तैयारी को देखकर कहा था कि इसके जरिये भारत ने भविष्य में ओलंपिक मेजबानी की दावेदारी की मजबूत नींव रखी है। तत्कालीन मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने कहा था कि राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारियों को लेकर कई तरह के विवाद खड़े हुए थे, लेकिन तमाम विवादों को पीछे छोड़ते हुए दिल्ली में अब विश्व स्तर के स्टेडियम और अन्य आधारभूत ढांचे तैयार हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि वह सोचती हैं कि दिल्ली में अब ओलंपिक की मेजबानी करने का भी माद्दा है। हालांकि साथ में यह भी जोड़ा कि इसका निर्णय अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओए) और भारत सरकार को करना है। यह उनके हाथ में नहीं है।

इंडोनेशिया ओपन बैडमिंटन : पीवी सिंधु ने चीन की चेन यू फेई को हराकर फाइनल में किया प्रवेश

जैक्स रोगे ने भी की थी तारीफ

तत्कालीन आईओए अध्यक्ष जैक्स रोगे ने भी राष्ट्रमंडल खेल के आयोजन की तारीफ करते हुए कहा था कि इसके जरिये भारत ने भविष्य में ओलंपिक खेलों की मेजबानी की दावेदारी करने की मजबूत नींव रखी है। राष्ट्रमंडल खेलों के महासंघ के तत्कालीन अध्यक्ष माइक फेनल ने भी कॉमनवेल्थ का शानदार आयोजन करने के लिए दिल्ली को बधाई दी थी।

राष्ट्रमंडल टेबल टेनिस : भारत की महिला और पुरुष दोनों टीमों ने किया खिताब पर कब्जा

विश्व मानक के अनुरूप अब दिल्ली के पास 15 स्टेडियम

शीला दीक्षित ने कहा था कि अब दिल्ली में 15 विश्वस्तरीय स्टेडियम हैं, जो अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप हैं। इसके अलावा अन्य विश्व स्तरीय सुविधाएं भी अब मौजूद हैं। आप जवाहर लाल नेहरू या अन्य स्टेडियमों की तरफ देखिए। ये सभी निश्चित रूप से विश्वस्तरीय हैं। एक भी व्यक्ति ऐसा नहीं मिल रहा है, जो खेल स्थलों की शिकायत कर रहा हो। राष्ट्रमंडल खेल शुरू होने के पहले ही सब कुछ समय से तैयार हो गया था।
दिल्ली में बने स्टेडियमों की तारीफ करते हुए शीला ने कहा था कि नेटबॉल स्पर्धा के लिए सरकार की ओर से बनी त्यागराज स्टेडियम को ही देखिए। वह विश्व के सबसे अच्छे स्टेडियमों में से एक है। एक कामचलाऊ स्टेडियम को हमने विश्व स्तरीय बना दिया। उन्होंने बताया कि करीब 16000 वर्ग फीट इलाके में फैले इस स्टेडियम को बनाने में नई हरित तकनीक और इको फ्रेंडली वस्तुओं का इस्तेमाल किया गया है।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned