नौकरी मिलते ही खत्म हुई पहलवान जाधव की आर्थिक तंगी

ग्रीको रोमन पहलवान सनी जाधव कभी अपना घर चलाने के लिए कार धोने से लेकर कई अजीबोगरीब काम करते थे। अब उन्हें रेलवे में नौकरी मिल गई है....

By: भूप सिंह

Updated: 25 Apr 2021, 12:39 AM IST

नई दिल्ली। ग्रीको रोमन पहलवान सनी जाधव (wrestler Sunny Jadhav), जो कि आजीविका चलाने के लिए कार धोने सहित कई अजीबोगरीब काम कर रहे थे। अब उन्हें आखिरकार भारतीय रेलवे में खेल कोटे से नौकरी मिल गई। इंदौर से 60 किलोग्राम भारवर्ग में राष्ट्रीय रजत पदक विजेता ने हाल ही एक इंटरव्यू में बताया कि एक नियमित सरकारी नौकरी मुझे और मेरे परिवार को बड़ी वित्तीय सहायता प्रदान करेगी। इससे मुझे केवल प्रशिक्षण पर ध्यान केंद्रित करने और अपने प्रदर्शन को बेहतर बनाने में मदद मिलेगी।

यह भी देखें :IPL 2021 Purple cap: पर्पल कैप पर हर्षल पटेल का कब्जा, जानिए टॉप 5 में कौन-कौन हुए शामिल

क्र्लक की मिली नौकरी
25 वर्षीय जाधव पश्चिम रेलवे में क्लर्क के रूप में शामिल हुए हैं। 2017 में उनके पिता के निधन के बाद जाधव की वित्तीय स्थिति खराब हो गई। फरवरी में खेल मंत्रालय ने जाधव के लिए 2.5 लाख रुपए मंजूर किए थे। जाधव का कहना है कि राष्ट्रीय चैंपियनशिप की तैयारी के लिए उन्होंने दोस्तों और परिवार से पैसे उधार लिए थे। जाधव ने कहा, मैंने अपने कोच और अन्य लोगों से लिए गए कर्ज को चुका दिया है।

यह भी देखें :IPL 2021 Points Table: RR को 10 विकेट से हराकर नंबर-1 पर पहुंची कोहली की टीम RCB

राष्ट्रीय चैंपियनशिप में दूसरे स्थान पर रहे थे
जालंधर में फरवरी में हुई राष्ट्रीय चैंपियनशिप में जाधव 60 किग्रा में दूसरे स्थान पर रहे। अर्जुन अवार्डी और रेलवे टीम के कोच कृपा शंकर पटेल ने बताया, जाधव को प्रतिभा कोटा योजना के तहत चुना गया है जिसका उद्देश्य भविष्य में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले युवाओं का समर्थन करना है।

भूप सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned