पाकिस्तान: इमरान सरकार के खिलाफ विपक्ष की रैली, शहबाज शरीफ समेत 1,900 के खिलाफ FIR दर्ज

पाकिस्तान: इमरान सरकार के खिलाफ विपक्ष की रैली, शहबाज शरीफ समेत 1,900 के खिलाफ FIR दर्ज

Anil Kumar | Updated: 27 Jul 2019, 09:58:04 AM (IST) पाकिस्तान

  • Opposition Protest In Pakistan: पाकिस्तान में इमरान खान सरकार के एक साल पूरे होने के मौके पर विपक्षी दलों ने काला दिवस मनाया

लाहौर। पाकिस्तान में इमरान खान सरकार के एक साल पूरे होने के मौके पर विपक्षी दलों ने विरोध जताया और जमकर प्रदर्शन किया। पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के नेता शहबाज शरीफ ( Shehbaz Sharif ) ने मॉल रोड में एक रैली निकाली जिसमें हजारों लोगों व कार्यकर्ताओं ने भाग लिया।

हालांकि पुलिस ने विपक्ष की इस रैली को आगे नहीं बढ़ने दिया और शहबाज शरीफ समेत 1900 कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया।

2018 में हुए आम चुनाव की पहली वर्षगांठ पर काला दिवस मनाते हुए पूरे देश में एकजुट विपक्ष ने रैलियों का आयोजन किया। इसमें पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ ने रैली का नेतृत्व किया

इमरान खान का एक साल: फिसड्डी साबित हुआ नया पाकिस्तान का दावा, हर मोर्चे पर फेल हुई सरकार

SHO सिविल लाइंस के तहत लाहौर में विपक्ष की रैली में उपस्थित लोगों के खिलाफ कई आरोपों के साथ मामला दर्ज किया गया है। FIR में कमर जमान काइरा, वहीद गुल, राबिया नसीम, उजमा बुखारी आदि जैसे बड़े नेताओं के नान भी शामिल हैं।

FIR में कहा गया है कि कई प्रदर्शनकारियों ने लाठियां चलाईं और मॉल रोड को घेर लिया, जिससे जनता को असुविधा हुई। साथ ही प्रदर्शनकारियों ने पुलिस बैरिकेट को तोड़ दिया, जनता को भड़काने वाले भाषण दिए और सरकार विरोधी नारे लगाए।

मरियम नवाज

सरकार के खिलाफ विपक्ष का प्रदर्शन

शुक्रवार को शहबाज शरीफ ने लाहौर के मॉल रोड की ओर एक रैली का नेतृत्व किया। इस दौरान उन्होंने मॉडल टाउन में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि जिन लोगों ने पाकिस्तान को बर्बाद किया है, उन्हें इसका भुगतान करना होगा और जिन लोगों ने नौकरियों की चोरी की है, वे जवाबदेह होंगे।

इसके अलावा, पीएमएल-एन के कार्यकर्ताओं ने पुलिस द्वारा सड़क पर लगाए गए बैरिकेटों को तोड़ दिया। अवरोधों से टूट गए। दूसरी तरफ काइरा, पीपीपी नेताओं ने शहबाज शरीफ के साथ लाहौर के चेरिंग क्रॉस रोड से शुरू करते हुए अपनी रैली का नेतृत्व किया।

बता दें कि पाकिस्तान में 25 जुलाई 2018 को आम चुनाव हुए थे। जिसमें पाकिस्तान तहरीके-ए-इंसाफ की पार्टी ने जीत हासिल की थी और इमरान खान देश के प्रधान मंत्री बने थे।

कंगाली से जूझ रहे पाकिस्तान का बुरा हाल, भारत ने 16 माह में 250 करोड़ रुपये की दवाईयां भेजी

इमरान खान ने नया पाकिस्तान का नारा देकर लोगों को भरोसा दिया था कि पाकिस्तान को विकास की राह पर आगे बढ़ाएंगे। लेकिन इमरान खान के कार्यकाल में पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था सबसे बुरे दौर में पहुंच गई।

इसके अलावा इमरान खान की सरकार ने विपक्षी दलों के नेताओं को एक-एक कर भ्रष्टाचार के आरोप में सलाखों के पीछे पहुंचा दिया। इसको लेकर विपक्षी दलों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

इससे पहले गुरुवार कोे मरियम नवाज ( Maryam Nawaz ) के नेतृत्व में पीएमएल-एल कार्यकर्ताओं ने विरोध मार्च निकाला था और सरकार के एक साल पूरे होने के दिन को काला दिवस के तौर पर मनाया।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned