पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस को बढ़ा झटका, यूरोपीय यूनियन ने फिर लगाया 3 महीने का प्रतिबंध

HIGHLIGHTS

  • यूरोपीय संघ विमानन सुरक्षा एजेंसी (EASA) ने पाकिस्तानी अधिकारियों की उम्मीदों पर पानी फेरते हुए PIA पर लगे प्रतिबंध को तीन महीने और बढ़ा दिया है।
  • EASA ने बताया कि नागरिक उड्डयन प्राधिकरण (CAA) की सुरक्षा ऑडिट के बाद PIA पर लगा प्रतिबंध हटा लिया जाएगा।

By: Anil Kumar

Updated: 27 Dec 2020, 05:08 PM IST

इस्लामाबाद। पायलटों के फर्जी लाइसेंस ( Fake Licence ) का मामला सामने आने के बाद से दुनियाभर में पाकिस्तान की किरकिरी हुई है और अब एक बार फिर से पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस ( PIA ) के उड़ानों पर यूरोपीय यूनियन ने तीन महीने का प्रतिबंध लगा दिया है।

यूरोपीय संघ विमानन सुरक्षा एजेंसी ( EASA ) ने पाकिस्तानी अधिकारियों की उम्मीदों पर पानी फेरते हुए PIA पर लगे प्रतिबंध को तीन महीने और बढ़ा दिया है। इस मामले में EASA ने शनिवार को जानकारी देते हुए बताया है कि नागरिक उड्डयन प्राधिकरण ( CAA ) की सुरक्षा ऑडिट के बाद PIA पर लगा प्रतिबंध हटा लिया जाएगा।

पाकिस्तान: PIA के 50 पायलटों का लाइसेंस रद्द, जानें पूरा मामला

इस मामले में शुक्रवार को पाकिस्तान के उड्डयन मंत्री गुलाम सरवर खान ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि वाणिज्यिक पायलटों को लाइसेंस जारी करने की प्रक्रिया के संबंध में EASA को अवगत कराया गया है कि बहुत जल्द ही यूरोपीय देशों में PIA के उड़ानों पर लगे प्रतिबंध को हटा लिया जाएगा।

PIA को हो रहा है भारी नुकसान

इधर, PIA के एक वरिष्ठ अधिकारी ने स्थानीय मीडिया डॉन को बताया है कि एयरलाइन की ओर से किए गए अनुरोध के जवाब में PIA को निराशाजनक जवाब मिला है। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय वाहक ने यूरोपीय एजेंसी से अनुरोध किया था कि उनकी शर्तों को पूरा करने तक उसे यूरोपीय स्थलों से उड़ानों के संचालन के लिए अस्थायी अनुमति दी जाए।

डॉन ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि EASA के प्रतिबंध के कारम PIA को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। इतना ही नहीं, PIA के उड़ान बाधित होने के कारण विदेशी एयरलाइनों को अपने परिचालन का विस्तार करने का अवसर भी मिल रहा है।

PIA ने 52 कर्मचारियों को नौकरी से निकाला, पायलटों पर EU के बैन को चुनौती देगा Pakistan

रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रिटिश एयरलाइन वर्जिन अटलांटिक ने इस महीने की शुरुआत में इस्लामाबाद और लाहौर के लिए अपनी सीधी उड़ानों को शुरू किया है, जबकि ब्रिटिश एयरवेज ने इस्लामाबाद से लाहौर तक अपनी उड़ानों का विस्तार किया है।

मालूम हो कि इसी साल 22 मई को कराची एयरपोर्ट के करीब PIA का विमान दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद जांच में ये बात सामने आई थी कि पायलट की लापरवाही से यह हादसा हुआ है। जांच में फर्जी लाइसेंस हासिल कर पायलट बनने का भी मामला सामने आया था। इसके बाद से पाकिस्तान समेत दुनियाभर में हड़कंप मच गया और फिर एहतियात के तौर यूरोपीय संघ ने एक बड़ा फैसला लेते हुए इसी साल जुलाई में PIA के उड़ानों पर 6 महीने के लिए प्रतिबंध लगा दिया था।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned