script नया साल 2024 होगा कुछ खास : न चंद्र ग्रहण और न सूर्य ग्रहण, व्यापार व व्यवसाय को मिलेगा बढ़ावा | Neither lunar eclipse nor solar eclipse in the year 2024 | Patrika News

नया साल 2024 होगा कुछ खास : न चंद्र ग्रहण और न सूर्य ग्रहण, व्यापार व व्यवसाय को मिलेगा बढ़ावा

locationपालीPublished: Dec 19, 2023 11:34:25 am

Submitted by:

Suresh Hemnani

राहु-केतु ग्रह 1 जनवरी को करेंगे नक्षत्र परिवर्तन

नया साल 2024 होगा कुछ खास : न चंद्र ग्रहण और न सूर्य ग्रहण, व्यापार व व्यवसाय को मिलेगा बढ़ावा
नया साल 2024 होगा कुछ खास : न चंद्र ग्रहण और न सूर्य ग्रहण, व्यापार व व्यवसाय को मिलेगा बढ़ावा
वर्ष 2023 की विदाई और नए साल 2024 के स्वागत के लिए सभी आतुर है। नया साल लगने में चंद दिन शेष रह गए हैं। इस नए साल से लोग कई उम्मीदें लगाए हैं। लोग यह भी सोच रहे हैं कि नए साल में खास क्या होगा तो हम आपको बता दे कि नए साल 2024 में एक भी सूर्य या चन्द्र ग्रहण नहीं आएगा।
ग्रह-नक्षत्र भी नए साल में खास प्रभाव डालेंगे। ज्योतिषाचार्य पं. ओमदत्त दवे के अनुसार नए साल में राहु-केतु ग्रह 1 जनवरी को नक्षत्र परिवर्तन करेंगे। राहु रेवती नक्षत्र व केतु चित्रा नक्षत्र में प्रवेश करेंगे। यह स्थिति अलग-अलग प्रकार के अनुसंधान को महत्व देनी वाली है। शिक्षा तथा सौंदर्य प्रसाधन में अलग प्रकार की स्थिति देखने को मिलेगी। चिकित्सा जगत व राजनीति क्षेत्र में कई बदलाव होंगे। व्यापार-व्यवसाय को गति मिलेगी।
ऐसा भी हो सकता है
इस नए अंग्रेजी वर्ष की शुरुआत में माना जा रहा है कि ग्रहों के अनुसार 6 महीने में अलग-अलग प्रकार से व्यापार-व्यवसाय की नीति में बदलाव होंगे। अंतरराष्ट्रीय और बहुराष्ट्रीय कंपनियों के प्रयास तथा भारतीय क्रियाविधि व्यावसायिक परंपरागत नीति के आधार पर बेरोजगारी की स्थिति में कमी आ सकती है। ग्रहों के राशि परिवर्तन तथा दृष्टि संबंधों से व्यावसायिक स्तर में वृदि्ध हो सकती है।
जलवायु में रहेगी असमानता
ज्योतिषाचार्यों के अनुसार नए साल में ग्रहों की स्थिति ऐसी बन रही है कि जलवायु अलग-अलग रंग दिखाएंगी। कई जगह पर अधिक बरसात होगी तो कई जगह पर सूखा पड़ सकता है। असामान्य जलवायु का प्रभाव सेहत पर भी पड़ेगा। प्राकृतिक प्रकोप भूकंप, बाढ़ व चक्रवात आदि भी आ सकते है। केतु ग्रह के कारण बीमारी का भी प्रभाव अधिक रह सकता है।
राजनीति में हो सकते हैं बदलाव
वर्ष 2024 में मंगल, शनि व राहु ग्रह के प्रभाव के कारण राजनीतिक बदलाव अधिक हो सकते हैं। विश्व में अपने धर्म के प्रति लोगों की अधिक आस्था जागेगी। लोग आध्यात्मिक रहस्य की ओर बढ़ेंगे। अपने इतिहास तथा संस्कृतियों को संयोजित करते हुए मानसिक शांति एवं योग आदि की तरफ आकर्षित होंगे। पुरातन पद्धति व परंपरा की ओर रुझान रहेगा।

ट्रेंडिंग वीडियो