मेनका को टक्कर देने आ रही यह महिला नेत्री, जानिए कौन

मेनका को टक्कर देने आ रही यह महिला नेत्री, जानिए कौन

suchita mishra | Publish: Oct, 13 2018 03:51:04 PM (IST) Pilibhit, Uttar Pradesh, India

पीलीभीत-बहेड़ी लोकसभा सीट से होगी शिवसेना की प्रत्याशी, अकेले लडे़गी शिवसेना लोकसभा चुनाव,

पूर्व सीडीओ की पत्नी है यह महिला नेत्री

पीलीभीत। 26 लोकसभा पीलीभीत-बहेड़ी शिवसेना की संभावित प्रत्याशी अनीता त्रिपाठी ने चुनावी बिगुल छेड दिया हैं। उन्होने कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुये कहा कि पीलीभीत से उनका 22 साल पुराना रिश्ता हैं। उनके पति 22 वर्ष पूर्व यहां के सीडीओ थे, उन्होनें कहा कि वो पीलीभीत में तभी से देख रही हैं कि यहॉ जाति, धर्म और मज़हब के नाम पर चुनाव होते चले आ रहे हैं और विकास की दर शून्य हैं। इसलिए लोकसभा के साथ-साथ विधानसभा, जिला पंचायत, नगर परिषद के सभी चुनावों में भी शिवसेना अपने प्रत्याशी उतारेगी विजयदशमी के दिन शिवसेना पीलीभीत के विकास के लिए शंखनाद करेगी।

प्रेसवार्ता में कहा
पीलीभीत लोकसभा सीट की प्रभारी बनाई गई अनीता त्रिपाठी ने प्रेसवार्ता में बताया कि शिवसेना लोकसभा चुनाव भाजपा के साथ गठबंधन में नहीं लडेंगी। वे शिवसेना में ही रहना पंसद करेंगी, जिस दिन शिवसेना छोडी उसी दिन राजनीति से सन्यास ले लूंंगी। पत्रकारों से मुख़ातिब होते हुए अनीता त्रिपाठी ने बिना सांसद (मेनका संजय गांधी) का नाम लिए कहा कि उन्होने पीलीभीत के अच्छे और बुरे दोनों ही दिन देखे है। यहां जिस प्रकार से विकास होना चाहिए था उसके पहिए थम गए है।

नहीं है मज़बूत संगठन
जब उनसे पूछा गया कि पीलीभीत में शिवसेना का न तो संगठन है और वहीं उनके सामने केंद्रीय मंत्री मेनका संजय गांधी जैसी कद्दावर नेता है। ऐसे में वे किस प्रकार चुनौतियों का सामना करेंगी। इस पर उनका कहना था कि यह सच है कि यहां संगठन कमजोर है, लेकिन आने वो दिनों में उसे और मजबूत किया जाएगा। पुराने शिवसैनिक वापस आना चाह रहे है, उनको वापस लाया जाएगा। जहां तक मुकाबले का सवाल है उनके सामने कौन है और कौन नहीं। इस बात को लेकर मैं चिंतित नहीं हुई। उनसे सवाल किया गया कि वे किन मुद्दों को लेकर चुनाव मैदान में आ रही है, तो उनका कहना था कि कुछ स्थानीय मुद्दे है, जबकि कुछ राष्ट्रीय मुद्दें जिनका खुलासा बाद में किया जाएगा। उन्होंने कहा कि वे यहां के गन्ना किसानों की बेहतरी के लिए कार्य करेंगी। इसके लिए एक कार्ययोजना तैयार की है, जिसका खुलासा वे आने वाले दिनों में करेंगी। वे बालिका शिक्षा जैसे गंभीर मुद्दों को लेकर आयेंगी। वार्ता के दौरान उनके पीयूष शुक्ला एडवोकेट, स्वर्ण एकता मंच के हरिओम वाजपेयी, पूर्व शिवसेना जिलाध्यक्ष पंकज शर्मा भी मौजूद रहे।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned