कर्नाटक और त्रिपुरा में भी बीजेपी आलाकमान कर रहा नेतृत्व बदलाव की तैयारी, दिल्ली दरबार में मंथन जारी

पश्चिम बंगाल चुनाव के दौरान पार्टी में उपजे असंतोष के बाद बीजेपी अन्य राज्यों में इस तरह की कमियों को दूर करने में जुटी है, विधायकों की नाराजगी के चलते बदले जा सकते हैं मुख्यमंत्री

By: धीरज शर्मा

Published: 17 Jul 2021, 09:50 AM IST

नई दिल्ली। उत्तराखंड ( Uttarakhand ) में दो बार नेतृत्व परिवर्तन को लेकर अब भारतीय जनता पार्टी ( BJP ) जल्द ही कर्नाटक ( Karnataka ) और त्रिपुरा ( Tripura ) में भी बड़े बदलाव कर सकती है। दरअसल पश्चिम बंगाल चुनाव के दौरान पार्टी में उपजे असंतोष के बाद बीजेपी अन्य राज्यों में इस तरह की कमियों को दूर करने में जुटी है।

यही वजह है कि अब सबकी निगाहें त्रिपुरा और कर्नाटक पर टिकी हैं। कर्नाटक सीएम बीएस येदियुरप्पा ( BS Yeddyurappa ) शुक्रवार को दिल्ली पुहंच गए हैं। अब शनिवार को उनकी मुलाकात बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ( JP Nadda )से हो सकती है। इससे पहले शुक्रवार को येदियुरप्पा ने पीएम मोदी से मुलाकात कर अटकलों और हवा दे दी।

यह भी पढ़ेँः ज्यादा दिन नहीं चलेगी महविकास अघाड़ी सरकार! कांग्रेस नेता पटोले ने दिया बड़ा संकेत

बीजेपी आलाकमान कर्नाटक और त्रिपुरा में नेतृत्व परिवर्तन के विकल्प पर भी विचार कर रहा है। नेतृत्व ने दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों को दिल्ली तलब किया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शुक्रवार को शीर्ष स्तर पर त्रिपुरा को लेकर गहन मंथन हुआ है। राज्य के संदर्भ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसी हफ्ते पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा और राज्य के प्रभारी विनोद सोनकर के साथ लंबी मंत्रणा की थी।

इसी मंत्रणा के बाद त्रिपुरा सीएम बिप्लव देव को दिल्ली तलब किया गया है। राजनीतिक गलियारों में इस बात की चर्चा जोरों पर हैं कि या तो राज्य सरकार में बड़ा बदलाव होगा या फिर बिप्लब देव की जगह उपमुख्यमंत्री विष्णुदेब बर्मन को सरकार का चेहरा बनाया जा सकता है।

767.jpg

कर्नाटक में बदलाव का संकेत
एक तरफ त्रिपुरा तो दूसरी तरफ कर्नाटक में भी बड़ा बदलाव संभव है। आलाकमान के निर्देश पर शुक्रवार शाम को कर्नाटक के सीएम बीएस येदियुरप्पा भी दिल्ली पहुंचे हैं। उनकी जल्द ही पार्टी अध्यक्ष नड्डा और पीएम से मुलाकात हो सकती है। कर्नाटक में भी येदियुरप्पा के खिलाफ सरकार और पार्टी में असंतोष है।

हालांकि पीएम मोदी से मुलाकात के बाद येदियुरप्पा ने नेतृत्व परिवर्तन के सवाल को हंस कर टाल दिया। सीएम येदियुरप्पा ने कहा कि पीएम से मुलाकात के दौरान उनसे मेकेदातु बांध परियोजना के साथ राज्य के विकास से जुड़ी लंबित परियोजनाओं के जल्द क्रियान्वयन करने का आग्रह किया।

बता दें कि बीते दो-तीन महीने में असंतुष्ट गुट के कई नेता पार्टी नेतृत्व से मुलाकात कर अपनी आपत्तियां दर्ज करा चुके हैं। आलाकमान के सामने राज्य मंत्रिमंडल में बड़ा बदलाव या सरकार के चेहरे में बदलाव का ही विकल्प है।

मुख्यमंत्रियों की कार्यशैली से नाराजगी
त्रिपुरा में डेढ़ दर्जन विधायक मुख्यमंत्री की कार्यशैली से नाराज हैं। मुख्यमंत्री के पास इस समय दो दर्जन से अधिक अहम विभाग हैं। इससे भी सरकार में मुख्यमंत्री के खिलाफ असंतोष है।

दरअसल बंगाल में मुकुल रॉय की टीएमसी में वापसी के बाद पार्टी नेतृत्व इस तरह के असंतोष से काफी सतर्क हो गया है।

यह भी पढ़ेंः चुनाव नहीं कुछ बड़ा करने के लिए गांधी परिवार से मिले प्रशांत किशोर, कांग्रेस के मिलेगा फायदा!

दूसरी ओर कर्नाटक में भी करीब तीन दर्जन विधायक वर्तमान सीएम से नाराज हैं। पार्टी नेतृत्व नहीं चाहता कि विधानसभा चुनाव से पहले इन राज्यों में बड़ा विवाद खड़ा हो जाए।

बता दें कि हाल में बीजेपी ने उत्तराखंड में नेतृत्व परिवर्तन किया था। तीरथ सिंह रावत को हटाकर पुष्कर धामी को प्रदेश की कमान सौंपी गई थी। खास बात यह है कि तीरथ सिंह को महज चार महीने में ही पद से हटाया गया।

BJP
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned