भारतीय सेना ने ग्‍लव्‍स विवाद से खुद को किया अलग, बलिदान चिन्‍ह धोनी का निजी निर्णय

भारतीय सेना ने ग्‍लव्‍स विवाद से खुद को किया अलग, बलिदान चिन्‍ह धोनी का निजी निर्णय

Dhirendra Kumar Mishra | Updated: 09 Jun 2019, 10:44:04 AM (IST) राजनीति

  • लेफ्टिनेंट जनरल चेरिश मैथसन ने ग्‍लव्‍स विवाद से खुद को अलग किया
  • बलिदान चिन्‍ह को लेकर उठे विवाद से भारतीय सेना का कोई लेना देना नहीं
  • इस मुद्दे पर आईसीसी निर्णय लेने के लिए पूरी तरह से स्‍वतंत्र

नई दिल्ली। आईसीसी विश्‍व कप में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मैच के दौरान भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी के ग्‍लव्‍स पर ‘बलिदान चिन्ह' को लेकर उठे विवाद से सेना ने खुद को अलग कर लिया है। भारतीय सेना की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि ग्‍लव्‍स पर सेना के बलिदान चिन्‍ह लगाने का निर्णय विकेटकीपर एमएस धोनी का निजी निर्णय है। बता दें कि आईसीसी ने विश्‍व कप मैच के दौरान धोनी द्वारा बलिदान चिन्‍ह वाले ग्‍लव्‍स पहनने पर रोक लगा दिया है।

तो चंद्रशेखर राव ने कर दिया तेलंगाना को 'कांग्रेस मुक्त'!

बलिदान पैराशूट रेजीमेंट की विशेष पहचान

भारतीय सेना के जीओसी इन सी साउथ वेस्टर्न कमान लेफ्टिनेंट जनरल चेरिश मैथसन ने भारतीय सैन्य अकादमी (आइएमए) में पासिंग आउट परेड का निरीक्षण करने के बाद कहा कि अपने दस्तानों पर बलिदान चिन्ह का उपयोग करना धोनी का निजी निर्णय है। सेना का इससे कोई लेना देना नहीं है। मैथसन का कहना है कि आइसीसी इस संबंध में निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र है। बलिदान चिन्‍ह सेना की पैराशूट रेजीमेंट की स्पेशल फोर्स का प्रतीक चिन्ह है।

Patrika Bits and Bytes: एक क्लिक में दोपहर 2 बजे तक की 10 बड़ी खबरें

 

रेजीमेंट में 2011 से लेफ्टिनेंट कर्नल है धोनी

पैराशूट रेजीमेंट में 2011 से भारतीय टीम के पूर्व कप्‍तान व विकेटकीपर धोनी मानद लेफ्टिनेंट कर्नल हैं। उनके दस्तानों पर यह प्रतीक चिन्ह अंकित है। बता दें कि धोनी के ग्‍लव्‍स पर सेना के प्रतीक चिन्‍ह अंकित हैं। इस पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने आपत्ति जताई थी।

पीएम मोदी VS सीएम ममता: कालीघाट पोस्‍ट ऑफिस में लगा 'जय श्री राम' के पोस्‍टकार्डों का

प्रायोजक का लोगो लगाने की है अनुमति

इस मुद्दे पर विवाद होने के बाद बीसीसीआई ने क्रिकेट की सर्वोच्च संस्था से अनुमति देने का आग्रह किया था। बीसीसीआई की मांग को आईसीसी ने अस्वीकार कर दिया है। आइसीसी ने साफ कर दिया है कि वह ऐसे किसी चिन्ह को पहनने की अनुमति नहीं दे सकता। विश्‍व कप में हिस्‍सा लेने वाले क्रिकेट खिलाड़ी केवल प्रायोजक का लोगो ही इस्तेमाल कर सकते हैं।

मालेगांव ब्लास्ट केस: प्रज्ञा ठाकुर के रवैये से NIA कोर्ट नाराज, आज पेश होने का सख्‍त आदेश

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned